शिक्षक दिवस विशेष : स्टूडेंट्स ने बनाया GOOGLE बाबा को अपना गुरु, ऑनलाइन स्टडी से रख रहे खुद को अपडेटेड

शिक्षक दिवस विशेष : स्टूडेंट्स ने बनाया GOOGLE बाबा को अपना गुरु, ऑनलाइन स्टडी से रख रहे खुद को अपडेटेड

Sonam Ranawat | Publish: Sep, 05 2018 08:32:08 PM (IST) Ajmer, Rajasthan, India

www.patrika.com/ajmer-news

 

सोनम राणावत/ अजमेर. सूचनाओं के आदान-प्रदान में क्रांतिकारी योगदान लाने वाला इंटरनेट अब शिष्यों का ग्रेट गुरुहो गया है। कुछ समय पहले तक विद्यार्थी अपनी छोटी-छोटी समस्या के समाधान के लिए टीचर्स से सम्पर्क करते थे लेकिन समय के साथ स्टूडेंट्स अब चुटकियों में अपनी समस्या का समाधान इंटरनेट से कर लेते हैं। इंटरनेट के जरिए पढ़ाई से सम्बन्धित सभी जानकारी की सहज उपलब्धता ने गुरु व शिष्य दोनों की राह आसान कर दी है। अब स्टूडेंट्स को यह जानकारी जुटाने के लिए टीचर्स के चक्कर नहीं काटने पड़ते बल्कि मनचाही जानकारी के साथ ही उस विषय से सम्बन्धित अन्य नॉलेज मोबाइल पर क्लिक मात्र से मिल जाती है।

 

ऑनलाइन स्टडी मेटीरियल
कुछ समय पहले तक किसी भी कॉम्पिटीशन एक्जाम को पास करने के लिए न केवल मोटी-मोटी किताबें पढऩी पड़ती थी बल्कि उन बुक्स को खोजने के लिए भी बाजार के चक्कर लगाने पड़ते थे। इससे स्टूडेंट्स का काफी समय जाया होता था लेकिन अब किसी भी विशेष टॉपिक से सम्बन्धित स्टडी मेटीरियल आसानी से ऑनलाइन स्टूडेंट्स को उपलब्ध हो जाता है।

कम्पेरेटिव स्टडी आसान

स्टूडेंट्स के लिए यह काफी फायदे का सौदा होता है कि किसी भी विषय की जानकारी हासिल करने के लिए केवल एक क्लिक मात्र से आसानी से उपलब्ध तो ही जाती है। इसके साथ ही स्टूडेंट्स के लिए कई विषय विशेषज्ञ की राय भी मिल जाती है जिससे स्टूडेंट्स के लिए तुलनात्मक अध्ययन करना और भी आसान हो जाता है।

वर्चुअल स्टडी ग्रुप्स
ऑनलाइन स्टडीज ने स्टूडेंट्स को वर्चुअल क्लासेज से जोड़ दिया है। कुछ समय पहले तक अपने दोस्तों के साथ बैठकर अपने सिलेबस में आने वाली परेशानी को सॉल्व कर लेते थे वहीं अब स्टूडेंट्स का रुझान वर्चुअलिटी की ओर हो गया है। इसमें स्टूडेंट्स अब ऑनलाइन स्टडी ग्रुप्स से जुडकऱ विषय विशेष पर आने वाली समस्याओं का तर्क -वितर्क के माध्ययस से रिजल्ट तक पहुंच रहे हैं।

 

समय की नहीं कोई पाबंदी

इंजीनियरिंग स्टूडेंट माधवी शर्मा ने बताया कि कॉलेज में क्लॉसेज खत्म होने के बाद कई तरह की समस्या रेगुलर स्टडीज में आती है। इसके लिए कभी भी किसी भी समय ऑनलाइन उस समस्या का हल आसानी से हो जाता है।


आरएएस परीक्षा में बनी मददगार

सम्राट पृथ्वीराज चौहान कॉलेज में अध्ययनरत रियाज खान ने बताया कि वे अधिकतर ऑनलाइन स्टडी ही करना पसन्द करते हैं। आरएएस परीक्षा में ऑनलाइन सॉल्वड व अनसॉल्वड पेपर देखना काफी मददगार साबित हुआ।

 

एन्टरटेनिंग है ऑनलाइन स्टडी

आठवीं कक्षा में अध्ययनरत शिवांश मिश्रा ने बताया कि बुक्स को कई देर तक पढऩा बोरिंग लगता है जबकि ऑनलाइन स्टडी एन्टरटेनिंग होता है।

नहीं होते किसी पर निर्भर
दसवीं कक्षा में अध्ययनरत सुहानी शर्मा ने बताया कि क्लासेज में पढऩे से आसान ऑनलइन पढ़ाई करना लगता है। इतना ही नहीं किसी पर निर्भर भी रहने की जरूरत नहीं होती ।

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned