टाटा पावर को किया शिकायतों के समयबद्ध निस्तारण के लिए पाबंद

अजमेर डिस्कॉम के मुख्य अभियंता ने दिए निर्देश

By: bhupendra singh

Published: 14 Jun 2021, 09:46 PM IST

अजमेर. अजमेर विद्युत विद्युत वितरण निगम ajmer discom ने टाटा पावर tata power को राजस्थान विद्युत नियामक आयोग (आरईआरसी) Rerc के द्वारा जारी स्टैंडर्ड ऑफ परफॉर्मेंस के आधार पर उपभोक्ताओं की शिकायतों complaints के समयबद्ध निस्तारण के लिए पाबंद timely disposalकिया है। निगम के मुख्य अभियंता (मुख्यालय) के पत्र के अनुसार आरईआरसी के द्वारा नई स्टैंडर्ड ऑफ परफॉर्मेंस के लिए निगम ने 25 मई को नियम बनाकर जारी कर दिए थे जोकि 15 अप्रैल (बैक डेट) से मान्य है। इस नियम के द्वारा टाटा फ्रंचाइजी को निर्धारित प्रदर्शन के मानकों को पूरा करना होगा। भीलवाड़ा तथा बांसवाड़ा में एमबीसी मॉडल पर काम कर रही निजी कम्पनियों को भी इन निर्देशों को मानना होगा।

जीएसएस व सबऑफिस पर भी दर्ज होगंी शिकायतें

टाटा पावर को उपभोक्ताओं की ट्रांसफार्मर फेलियर से संबंधित शिकायत तथा सुरक्षा , विद्युत सप्लाइ विद्युत चोरी की शिकायत को सब स्टेशन और सब ऑफिसों में भी पंजीकृत करना होगा। इन शिकायत के निस्तारण के लिए सब स्टेशन तथा सबऑफिस में एक रजिस्टर का संधारित करना होगा। शिकायत निवारण होते ही शिकायत का पंजीकृत नंबर जो कि सिस्टम से जनरेट होगा को उपभोक्ता को मैसेज या अन्य माध्यम से पहुंचाना अनिवार्य होगा।

घर के पते व सबडिवीजन के नाम से भी शिकायत दर्ज करनी होगी

उपभोक्ता को शिकायत दर्ज कराने के लिए अपने के-नंबर अथवा खाता संख्या और सब डिवीजन का नाम अथवा शिकायतकर्ता का नाम मोबाइल नंबर तथा एड्रेस तथा सब डिवीजन का नाम का बताना होगा। इसके माध्यम से भी शिकायत दर्ज करनी होगी।

30 मिनट के भीतर शिकायतकर्ता को बताना होगा

टाटा पावर को उक्त आदेश जारी होने के 2 माह के भीतर सभी उपभोक्ताओं के मोबाइल नंबर एकत्रित कर सेंट्रलाइज कॉल सिस्टम तथा अपने शिकायत केंद्र में रजिस्टर्ड करने होंगे। शिकायत दर्ज होने के बाद 30 मिनट के भीतर शिकायतकर्ता को शिकायत की स्थिति के बारे में सूचित करना होगा।

आरईआरसी को देनी होगी जानकारी

अजमेर विद्युत वितरण निगम के मुख्य अभियंता (मुख्यालय) ने टाटा पावर को यह भी निर्देशित किया है कि सूचना को रजिस्टर्ड करके उस सूचना के संपूर्ण निस्तारण के समय तथा अन्य सभी सूचनाएं एक फॉर्मेट में एकत्रित कर उनका रिकॉर्ड रखना होगा तथा त्रैमासिक रूप से उसकी जानकारी डिस्कॉम तथा आरईआरसी को देनी होगी।

read more: खरबो रुपए खर्च करने के बाद राज्य के 709 गांव बिजली अभी भी दूर,'नहीं मिली अंधेरे से आजादीÓ

bhupendra singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned