हटा संदेह का कुहासा, ऑनर किलिंग का हुआ खुलासा

प्रेम-प्रसंग में उत्तर प्रदेश के युवक-बालिका की हुई थी हत्या,युवक का शव मप्र में तो युवती का शव मिला था राजस्थान में, धौलपुर पुलिस ने जोड़े तार तो खुली वारदात

कहते हैं हर हत्यारा कोई न कोई सुराग अवश्य छोड़ता है। वही सुराग हत्यारे को उसके अंजाम तक पहुंचाता है। ऐसा ही कुछ देखने को मिला उत्तर प्रदेश के सिरसागंज थाना क्षेत्र के युवक-बालिका की ऑनर किलिंग के मामले में। हत्यारों ने युवक का शव मध्यप्रदेश में तो नाबालिग बालिका का शव राजस्थान मेंं फेंका।

By: Dilip

Published: 16 Sep 2021, 01:29 AM IST

धौलपुर. कहते हैं हर हत्यारा कोई न कोई सुराग अवश्य छोड़ता है। वही सुराग हत्यारे को उसके अंजाम तक पहुंचाता है। ऐसा ही कुछ देखने को मिला उत्तर प्रदेश के सिरसागंज थाना क्षेत्र के युवक-बालिका की ऑनर किलिंग के मामले में। हत्यारों ने युवक का शव मध्यप्रदेश में तो नाबालिग बालिका का शव राजस्थान मेंं फेंका। गिरफ्त में आए अभियुक्त उत्तर प्रदेश पुलिस को बयानों में उलझाते रहे। फिर भी धौलपुर पुलिस की सूझबूझ से न केवल हत्याओं के तार जुड़े, बल्कि दो आरोपियों की गिरफ्तारी भी हुई। दरअसल, धौलपुर के दिहौली थानाक्षेत्र में 4 अगस्त को झाडिय़ों में एक नाबालिग बालिका का शव मिला था। जिसके गले में रस्सी का फंदा था और उसे 8-10 गांठें लगी हुई थीं। ऐसा प्रतीत होता था कि अन्यत्र हत्या कर शव यहां फेंका गया है। धौलपुर पुलिस के समक्ष मृतका की शिनाख्त और मामले का खुलासा करने की चुनौती थी।

ऐसे किया खुलासा
बालिका का शव मिलने के बाद पुलिस अधीक्षक केसर सिंह शेखावत ने एक टीम कर मामले की पड़ताल शुरू कराई। जांच के दौरान एक महत्वपूर्ण तथ्य सामने आया कि मध्यप्रदेश में ग्वालियर के आंतरी थाना क्षेत्र में भी एक युवक का शव मिला। दोनों ही मामलों में हत्या का तरीका समान था। दोनों ही मामलों में शिनाख्त नहीं हो पाई थी और अभियुक्त अज्ञात थे। धौलपुर पुलिस ने दिहौली थाना में दर्ज प्रकरण और आंतरी थाना क्षेत्र में मिले युवक के शव के संबंध में दर्ज सूचनाएं व मृतकों के फोटो सीमावर्ती जिलों की पुलिस से साझा किए। इस पर सिरसागंज पुलिस ने मंगलवार को दिहौली पुलिस से संपर्क किया तो मामले का खुलासा हुआ।

यह था मामला
उत्तर प्रदेश के गांव जहांगीरपुर थाना सिरसागंज जिला फिरोजाबाद के उत्तम यादव पुत्र सुगड़ सिंह की गुमशुदगी का मामला उसके पिता ने 10 अगस्त को दर्ज कराया था। 12 अगस्त को जान से मारने की नीयत से अपहरण करने के संबंध में कुछ व्यक्तियों को नामजद करते हुए मामला दर्ज कराया गया। जांच में सामने आया कि उत्तम का पड़ोस की एक नाबालिग से प्रेम प्रसंग था। दोनों 30 जुलाई को दिल्ली चले गए। बालिका के घर वाले दिल्ली जाकर दोनों को आगरा के पिनाहट ले आए और समझाइश की। दोनों के नहीं मानने पर लड़की के परिजन दोनों को पिनाहट से मध्यप्रदेश के भिंड ले गए। भिंड से ग्वालियर के नजदीक आंतरी थाना क्षेत्र में 3-4 अगस्त की मध्यरात्रि उत्तम की रस्सी से लगा घोंट हत्या कर दी। हत्यारों ने युवक का प्राइवेट पार्ट काट शव सड़क किनारे फेंक दिया। इसके बाद ग्वालियर से धौलपुर होते हुए दिहौली थाना क्षेत्र के मरैना के पास बालिका की भी लगा घोंट हत्या कर दी और शव झाडिय़ों में फेंक दिया। दो अलग-अलग राज्यों में हत्याएं और प्रकरण तीसरे राज्य का होने से मामले का खुलासा पुलिस के लिए खासा चुनौतीपूर्ण था।

उलझाते रहे थे अभियुक्त
इस मामले में सिरसागंज थाना पुलिस ने एक अभियुक्त को गिरफ्तार किया। उसने पुलिस को बताया कि युवक व बालिका की हत्या कर शव यमुना नदी में फेंक दिया। उत्तर प्रदेश पुलिस यमुना में शव तलाशती रही। इसी दौरान पुलिस ने एक और अभियुक्त को भी गिरफ्तार किया, परंतु सच्चाई नहीं उगलवा पाई। धौलपुर पुलिस की पहल पर मामले का खुलासा हुआ। सिरसागंज पुलिस ने अभियुक्त से बालिका का शव फेंके गए स्थान की शिनाख्तगी कराई।

यह रहे टीम में शामिल
धौलपुर पुलिस अधीक्षक द्वारा मामले की पड़ताल के लिए बनाई गई टीम में सीओ धौलपुर प्रवेन्द्र सिंह महला, सीओ मनियां मनोज गुप्ता, दिहौली थाने से थानाप्रभारी बीधाराम, हेड कांस्टेबल योगेन्द्र व कांस्टेबल मनोज तथा धौलपुर साइबर सेल के हेड कांस्टेबल विजय शामिल थे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned