मिलावट की सूचना देने वाले को मिलेगा 51 हजार का ईनाम

जिले में आज से 'शुद्ध के लिए युद्धÓ

जिलेभर में चलेगा अभियान, प्रशासन और पुलिस की संयुक्त टीम करेगी कार्रवाई

By: bhupendra singh

Updated: 25 Oct 2020, 09:04 PM IST

अजमेर.आम जनता को शुद्ध खाद्य पदार्थ, दूध उत्पाद व मिठाई आदि की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए शुद्ध के लिए युद्ध अभियान सोमवार से शुरू किया जाकर 14 नवम्बर तक चलाया जाएगा। इसके तहत प्रशासन और पुलिस की टीमें मिलावटखोरों के खिलाफ कार्रवाई करेंगी। जांच में अत्याधुनिक उपकरणों की सहायता ली जाएगी। मिलावट की सूचना देने वाले को 51 हजार रूपए का ईनाम भी दिया जाएगा।

इन उत्पादों की होगी जांच
जिला कलक्टर प्रकाश राजपुरोहित ने बताया कि 26 अक्टूबर से शुरू होने वाले अभियान के दौरान दूध, मावा,पनीर सहित अन्य दुग्ध उत्पाद, आटा, बेसन, खाद्य तेल, घी, सूखे मेवे, मसालों तथा बाट -माप की जांच की जाएगी।

प्रोत्साहन राशि 51 हजार
अभियान में मिलावटखोरों के खिलाफ पुख्ता सूचना देने वालों को सूचना सही पाए जाने पर 51 हजार रूपए की राशि प्रदान कर सूचना देने वाले का नाम गुप्त रखा जाएगा। इस राशि का वितरण जिला कलक्टर द्वारा फूड टेस्टिंग लैब की जांच के उपरान्त निष्कर्ष प्रमाणित होने के पश्चात किया जाएगा।

दो जांच दलों का गठन
प्रथम जांच दल में उपखंड अधिकारी अजमेर अवधेश मीना टीम लीडर होंगे। इनके अलावा पुलिस उप अधीक्षक, पुलिस निरीक्षक, खाद्य सुरक्षा अधिकारी रमेश सैनी, एलएमओ मनीष भटनागर, प्रवर्तन अधिकारी राहुल भावरिया, हिमानी पिपलीवाल, अंकिता जैन, अजमेर डेयरी प्रतिनिधि संजय शर्मा व गुणवता नियंत्रक (डेयरी) देवराज रहेंगे।

द्वितीय जांच दल में प्रोटोकॉल अधिकारी आलोक जैन टीम लीडर, पुलिस उप अधीक्षक, पुलिस निरीक्षक, खाद्य सुरक्षा अधिकारी अजय गोयल, एलएमओ भावना दयाल, प्रवर्तन अधिकारी निरीक्षक सुरेन्द्र भारती, योगेश मिश्रा, खान मोहम्मद, अजमेर डेयरी प्रतिनिधि सुमित कंगवा व गुणवता नियंत्रक (डेयरी) हरेन्द्र को शामिल किया गया है।
इन नम्बरों पर दें सूचना

मिलावटखोरों की सूचना राज्य स्तरीय हैल्पलाईन नंबर 181, जिला कंट्रोल रूम 0145.2631111 व 0145.2627300 पर दी जा सकेगी।

read more:

bhupendra singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned