scriptआवास का सपना पूरा नहीं कर पा रहे जिम्मेदार महकमे | Patrika News
अजमेर

आवास का सपना पूरा नहीं कर पा रहे जिम्मेदार महकमे

– अजमेर विकास प्राधिकरण की पिछले 15 वर्षों में नहीं कोई योजना -पृथ्वीराज नगर व विजयाराजे नगर में पेयजल लाइन का काम अधूरा – पृथ्वीराज नगर में भूमि के बदले भूमि मामले में 45 काश्तकार पहुंचे हाईकोर्ट अजमेर. अजमेर विकास प्राधिकरण की बहुप्रतीक्षित आवासीय योजना पृथ्वीराज नगर 16 साल से धरातल पर नहीं उतर सकी […]

अजमेरJul 10, 2024 / 11:01 pm

Dilip

prathviraj nagar yojna

prathviraj nagar yojna

– अजमेर विकास प्राधिकरण की पिछले 15 वर्षों में नहीं कोई योजना

-पृथ्वीराज नगर व विजयाराजे नगर में पेयजल लाइन का काम अधूरा

– पृथ्वीराज नगर में भूमि के बदले भूमि मामले में 45 काश्तकार पहुंचे हाईकोर्ट
अजमेर. अजमेर विकास प्राधिकरण की बहुप्रतीक्षित आवासीय योजना पृथ्वीराज नगर 16 साल से धरातल पर नहीं उतर सकी हैं। सडक़-पानी जैसी मूलभूत सुविधाएं नहीं जुटाई जा सकी हैं।

योजना के गति पकड़ने में फांस भूमि के बदले भूमि मामले में 45 काश्तकारों का हाईकोर्ट चले जाना है। विवाद तब और गहरा गया जब क्षेत्र के कुछ भूखंडों का नियमन कर दिया गया। इससे भू-स्वामियों में नाराजगी बढने का एक और कारण कि निर्धारित अवधि में म़ुआवजा न्यायालय में नहीं जमा कराया गया।
भूस्वामी के जमीन का निर्धारित प्रतिशत की भूमि देने या उसका मुआवजा दिया जाना था, लेकिन इसमें भी कथित रूप से भेदभाव किया गया।वहीं इस संबंध में एडीए अधिकारियों का कहना है कि पेयजल टंकी का निर्माण तेजी से चल रहा है। अन्य मूलभूत सुविधाओं के कार्य भी प्रगति पर हैं। पाइप लाइन बिछाई जा चुकी है। ग्रेवल सड़क पर डामरीकरण होना है। विद्युत आपूर्ति के ग्रिड स्टेशन स्थापित किए जा चुके हैं
———————————————-

योजनाओं का वर्ष

– पृथ्वीराज नगर योजना : वर्ष – 2007, भूखंड – 2705 : सीवरेज व पाइप लाइन का कार्य शेष है, टंकी निर्माण जारी, 60 फीसदी खातेदारों को भूमि के बदले भूमि दी, 40 फीसदी को मुआवजे का इंतजार।
– विजयाराजे नगर योजना : वर्ष – 2018, भूखंड – 536 : पानी व सड़क के कार्य जारी

– डीडीपुरम योजना : वर्ष 2015, भूखंड प्रथम चरण 3553, द्वितीय चरण 1759. : आधारभूत सुविधाएं शुरू होनी हैं।
– निकट भविष्य में कोई नई आवासीय योजना : फिलहाल नहीं

————————————————————–

विद्युत आपूर्ति की तैयारी

– 33 केवी जीएसएस डिस्कॉम ने लगाया- 6.28 करोड़ रुपए जीएसएस की लागत

—————————————————————
1000 साल पुराना गांव किया अधिग्रहीत !

माकड़वाली ग्राम 1000 साल पुराना है। यहां ग्रामीण कई पीढि़यों से रह रहे हैं। इसके बावजूद ग्रामीण क्षेत्र को एडीए ने अधिग्रहीत करने की योजना बनाई है। इससे भी ग्रामीण असंतुष्ट हैं। पानी की टंकी का निर्माण जारी है। ग्रेवल सड़क बनी हुई है। डामरीकरण नहीं किया गया है। सीवरेज व पाइप लाइन का कार्य शेष है। जब तक अदालती विवाद नहीं खत्म हाेंगे, योजना फलीभूत होना मुश्किल है।
– नीरू भाई, क्षेत्रवासी

Hindi News/ Ajmer / आवास का सपना पूरा नहीं कर पा रहे जिम्मेदार महकमे

ट्रेंडिंग वीडियो