नाले में रिसते पानी से बुझाते हैं प्यास !

कोटड़ा की वाल्मीकि बस्ती में कई सालों से नहीं आया पानी

नाले से गुजरती पाइप लाइन में होते रिसाव से भरते हैं पानी

जलदाय विभाग नहीं भेजता नियमित टैंकर,11 दिन से हो रहा इंतजार

By: himanshu dhawal

Published: 05 Sep 2020, 05:20 PM IST

हिमांशु धवल

अजमेर. स्मार्टसिटी बनने जा रहे शहर का एक इलाका ऐसा भी है जहां नाले में से गुजरती पानी की पाइप लाइन से रिसते पानी के लिए लोगों की लाइन लगी रहती है। हालांकि घरों में जलदाय विभाग का पानी का कनेक्शन है, लेकिन कई घरों में कई सालों से बूंद भर पानी नहीं टपका। जिसके चलते कोटड़ा क्षेत्र की वाल्मीकि आवासीय बस्ती के बाशिंदे पाइप से रिसते पानी पर ही निर्भर हैं। जलदाय विभाग की ओर से भेजे जाने वाले टैंकरों का भी कोई नियत शेड्यूल नहीं है। कॉलोनी में पिछले 11 दिनों से टैंकर नहीं आया है।

सौ मकानों की बस्ती
कोटड़ा स्थित वाल्मीकि आवासीय बस्ती में 105 मकान बने हुए हैं। इसमें से 25-30 मकानों में पिछले कई वर्षों से पानी की बूंद तक नहीं टपकी है। सर्दी में कभी-कभार पानी आ जाता है। लेकिन गर्मी में आज तक एक बूंद पानी नहीं टपका। जलदाय विभाग की ओर से भी मनमर्जी से टैंकर भेजे जाते हैं जिनका कोई वक्त या दिन तय नहीं है।

किसी को नहीं कोई सरोकार
टैंकर नहीं आने पर नाले में से गुजर रही पाइप लाइन से लगा वॉल्व ही लोगों को पानी मयस्सर कराने का इकलौता जरिया है। इससे होते रिसाव से लोगों को जरूरत के लिए पानी भरना पड़ता है। क्षेत्रवासियों ने जलदाय विभाग के अधिकारियों से लेकर जनप्रतिनिधियों तक को यह सब हालात बता रखे हैं, लेकिन अफसर सुध नहीं लेते, और जनप्रतिनिधियों को कोई सरोकार नहीं। हालांकि विभागीय अधिकारी इस इलाके के लिए प्रस्ताव बनाकर भेजा जाना बताते हैं। लेकिन राहत कब मिलेगी इसका जवाब उनके पास भी नहीं है।

रिसते पानी से बुझाते हैं प्यास

कॉलोनी के पास से ही एक बंद नाला है। उसमें से पानी की पाइप लाइन गुजर रही है। पाइप लाइन में जलापूर्ति के दौरान उसमें लगे वॉल्व में से पानी का रिसाव होता है। यहीं से कॉलोनी के लोग पाइप लगाकर पीने का पानी भरते हैं। पास में लगा हैडपंप भी खराब पड़ा है। जिसे भी विभाग की ओर से नहीं सुधारा गया।

पानी आता नहीं, बिल प्रतिमाह
घरों में पानी नहीं आता है, लेकिन जलदाय विभाग हर महिने बिल भेज देता है। इसके कारण हम पानी का बिल भी नहीं भर रहे हैं। घर में दो कनेक्शन ले रखे हैं, लेकिन एक में भी पानी नहीं आता।

- पारूमल, क्षेत्रवासी

रिसते वॉल्व से भरते हैं पानी

पानी की परेशानी के कारण पाइप लाइन से होने वाले रिसाव में से पानी भरना पड़ता है। यहां पर भी लाइन लगी रहती है। इसमें कीड़े काटने का डर बना रहता है।
- मंजीत कौर, क्षेत्रवासी

पांच साल से नहीं आया पानी

पानी की समस्या के समाधान के लिए सभी से गुहार लगा चुके हैं। लेकिन आजतक समस्या का समाधान नहीं हुआ है। मेरे घर में पांच साल से पानी की बूंद नहीं टपकी है।

- मीना कौर, क्षेत्रवासी

टंकियां पड़ी हैं खाली
कॉलोनी के सक्षम लोगों ने घरों में टैंक बनवा रखे हैं। वे टैंकर डलवा लेते हैं। लेकिन गरीबों के लिए परेशानी हो जाती है। घरों के बाहर रखी टंकियां खाली पड़ी हुई हैं।

-रवि कुमार, क्षेत्रवासी

इनका कहना है...
कुछ घरों में पानी की आपूर्ति पर्याप्त मात्रा में नहीं हो पाती है। इसी के चलते टैंकर से जलापूर्ति कराई जाती है। यह अंतिम छोर पर स्थित बस्ती है। इसके लिए अनटेप्ड पाइप लाइन का प्रस्ताव बनाकर पहले ही भेजा हुआ है। स्वीकृति मिलते ही काम शुरू कर दिया जाएगा। इससे समस्या का समाधान हो जाएगा।

- राजीव कुमार

एक्सईएन जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग, अजमेर

himanshu dhawal Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned