वारदात के बाद भी नहीं सुधरे धौलपुर में हालात

दिनभर दौड़ते नजर आए प्रतिबंधित बजरी के टे्रक्टर, गिरफ्तार बजरी माफियाओं के अन्य साथियों को चिन्हित करने में जुटी पुलिस


उत्तर प्रदेश के आगरा जिले के सरैंधी क्षेत्र में पुलिस और बजरी माफियाओं के बीच मुठभेड़ के बाद भी शुक्रवार को जिलेभर में प्रतिबंधित चंबल बजरी का परिवहन बेरोकटोक होता नजर आए

By: Dilip

Published: 05 Feb 2021, 11:47 PM IST

धौलपुर. उत्तर प्रदेश के आगरा जिले के सरैंधी क्षेत्र में पुलिस और बजरी माफियाओं के बीच मुठभेड़ के बाद भी शुक्रवार को जिलेभर में प्रतिबंधित चंबल बजरी का परिवहन बेरोकटोक होता नजर आए। शहर से गुजरने वाले हाइवे व आमरास्तों पर प्रतिबंधित बजरी के वाहनों का रोजाना की भांति रैला लगा रहा। ऐसे में जिले में बजरी परिवहन रोकने के तमाम प्रयाासों पर सवाल खड़ा हुआ है। वहीं, मुठभेड़ के बाद पकड़ में आए बजरी माफियाओं से पूछताछ करते हुए यूपी पुलिस ने अन्य माफियाओं को चिन्हित करने के प्रयास शुरू कर दिए है।
गत गुरूवार रात करीब करीब 3 बजे को उत्तर प्रदेश के सैंरधी पुलिस को सूचना मिली कि धौलपुर की ओर से अवैध चंबल बजरी से भरे ट्रैक्टर आ रहे हैं, इस पर पुलिस ने बजरी से भरे ट्रेक्टरों को रोकने का प्रयास किया। पुलिस के नजदीक पहुंचते ही माफियाओं ने पुलिस पर जान से मारने की नियत से फायरिंग शुरू कर दी।

जवाब में पुलिस ने आत्मरक्षा में गोली चलाई, जिससे दो जने घायल हो गए। पुलिस पड़ताल में बजरी के आठ ट्रैक्टर-ट्रॉली होना बताए गए थे। इन बजरी के वाहनों की एक कार से एस्कोर्ट भी किया जा रहा था। घटना के बाद पुलिस ने तीन ट्रैक्टर एवं बजरी वाहन को एस्कोर्ट करने वाली कार को जब्त किया गया है।
बजरी माफिया धौलपुर-भरतपुर मार्ग पर रास्ते में ही बजरी खाली करके फरार हो गए। पुलिस ने बताया कि गोली लगने से घायल पप्पू पुत्र अंगद निवासी बसाई बंसी पहाड़पुर थाना रुदावल, रामू पुत्र रामनाथ कुआं खेड़ा थाना बाड़ी सदर जिला धौलपुर एवं पंकज पुत्र नारायण निवासी बसई बंसी पहाड़पुर थाना रुदावल को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ करते हुए उसके अन्य साथियों को चिन्हित करने के प्रयास शुरू कर दिए है। आरोपियों के चिन्हित किए जाने के बाद उन्हें पकडऩे के लिए दबिश भी दी जाएंगी।

यूपी पुलिस के सिपाई को कुचला
उल्लेखनीय है कि गत 8 नवंबर 2020 को निकटवर्ती खेरागढ़ थाने के अयेला गांव के निकट भी अवैध चंबल माफियाओं ने ट्रैक्टर से सोनू चौधरी नामक पुलिस कांस्टेबल की हत्या कर दी थी। मामले में यूपी पुलिस ने धौलपुर के कौलारी थाना इलाके के बजरी माफियाओं को गिरफ्तार भी किया गया।

यूपी पुलिस से पहले भी मुठभेड़

गत ९ सितम्बर को आगरा जिले के जगनेर थाना पुलिस ने चंबल रेता के ट्रैक्टर को रुकवाने का प्रयास किया तो ट्रेक्टर-ट्रॉली पर सवार माफियाओं ने पुलिस पर फायरिंग शुरू कर दी और चंबल रेता से भरी ट्रॉली को फैलाते हुए भागने का प्रयास किया । माफिया की फायरिंग के जबाव में जगनेर थाना पुलिस ने फायरिंग करना शुरू कर दिया। इस दौरान बजरी माफिया सुखराम पुत्र दाताराम निवासी गांव भागना थाना कौलारी जिला धौलपुर के पैर में गोली लगने से घायल हो गया और दो बजरी माफिया मदन पुत्र टीकम ठाकुर निवासी कूकरा थाना सैपऊ जिला धौलपुर, लव कुश पुत्र महावीर निवासी गांव मोहनलाल का पुरा सैया उत्तर प्रदेश को गिरफ्तार कर लिया गया है।
नहीं रूका चंबल बजरी परिवहन

कहने को प्रतिबंधित बजरी परिवहन रोकने के लिए जिला प्रशासन की ओर से तमाम दावे किए जा रहे है। इसके बाद भी जिले के बजरी माफियाओं का दुस्साहस इतना बुलंद है कि वेे बंदोबस्त के बीच भी चंबल बजरी परिवहन करने से नहीं चूक रहे है। शहर के आामरास्तों पर शुक्रवार को भी चंबल बजरी से भरे ट्रेक्टर-ट्रॉली दौड़ते हुए नजर आए। ऐसा नहीं कि पुलिस व प्रशासन ने इन्हें ना देखा हो, लेकिन सब कुछ देखकर भी खामोश नजर आई। व्यवस्था ने धौलपुर में व्यवस्थाओं पर कई सवाल खड़े कर दिए है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned