हादसा : घर से दादा का खाना लेकर जंगल निकले पोतों को क्या पता था कि वह जिंदा नहीं लौटेंगे

चूरू जिले के ढाणी राणासर के कैरवाणा ताल की घटना, एक भाई को जोहड़ में डूबते देख दोनों भाइयों ने बचाने का प्रयास किया,लेकिन वह भी पानी में गिरने से डूब गए,मृतकों में दो सगे भाई व दूसरा ताऊ का बेटा

By: suresh bharti

Published: 21 Oct 2020, 11:50 PM IST

अजमेर/सरदारशहर. एक ही परिवार के तीनों भाई जंगल में भैंसें चरा रहे दादा हीराराम प्रजापत का खाना लेकर घर से निकले थे, लेकिन शाम को उनके शव घर पहुंचे तो कोहराम मच गया। इस हादसे का जिसे भी पता चला। वह स्तब्ध रह गया। तीनों बच्चों को तैरना नहीं आता था।

एक बच्चा जोहड़ में पानी पीने गया था। तभी पैर फिसलने से वह गिर गया। यह देख दोनों भाई दौड़कर मौके पर आए,लेकिन डूबते भाई को बचाने के प्रयास में दोनों भी गहरे पानी में चले गए। हादसे के बाद भानीपुरा थाना क्षेत्र के गांव ढाणी राणासर के कैरवाणा ताल स्थित परिवार में लोग विलाप करते रहे।

इनकी हुई मौत

पंकज पुत्र मोतीराम (10), सुरेन्द्र पुत्र किशनलाल (14) व नरेन्द्र पुत्र किशनलाल प्रजापत (12) की जोहड़ में डूबने से मौत हुई। हादसे का पता चलते ही दादा भागकर मौके पर आया। उसके शोर मचाने पर खेतों में काम कर रहे कई लोग भी आ गए। काफी प्रयासों के बाद तीनों भाइयों को पानी से निकाल कर अस्पताल पहुंचाया, लेकिन चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

दहाड़े मारकर विलाप करते रहे परिजन

मृतक तीनों बच्चे एक ही परिवार में दो सगे भाई मोतीराम और किशनलाल की संतान थे। इस जोहड़े के निर्माण कलस्टर के तहत हुआ था। सूचना मिलते ही समूचे गांव में शोक की लहर दौड़ गई। पल्लू थाना पुलिस ने मृतक बच्चों का पोस्टमार्टम करा शव परिजन को सौंप दिए। तीनों शव घर पहुंचते ही कोहराम मच गया। माता-पिता दहाड़े मारकर विलाप करते रहे। इनकी मां कई बार अचेत हो गई। तीनों की अर्थियां एक साथ उठी तो माहौल गमगीन हो गया। हर किसी की आंखों से आंसू छलक गए।

किशनलाल ने दोनों बेटे खोए

ढाणी राणासर निवासी किशनलाल खेती व पशुपालन का कार्य करता है। उसके सुरेन्द्र और नरेन्द्र दो ही बच्चे थे, जिनकी जोहड़ में डूबने से मौत हो गई। ऐसे में अब उसकी लाठी का सहारा भी टूट गया। इन बच्चों की मां का रो-रोकर बुरा हाल रहा। घर के दो चिराग थे जो बुझ गए। इनकी मां विलाप करते समय यही कहती रही- कहां चले गए मेरे लाल...हे भगवान बच्चों से पहले हमें ही ऊपर बुला लेते...सुरेन्द्र व नरेन्द्र ने तो अभी दुनिया ही कहीं देखी है...छोटी सी उम्र में सदा के लिए चले गए...अब हम किसके सहारे जीएंगे...।

परिजन को सांत्वनाएं

सूचना पर पंचायत समिति के पूर्व प्रधान रामकुमार मेघवाल ने विधायक भंवरलाल शर्मा को घटना की जानकारी दी। विधायक शर्मा ने पीडित़ परिवार को हर संभव मदद दिलाने का आश्वासन दिया है। मेघवाल मौके पर पहुंचकर परिजन को ढांढस बंधाया। उपखण्ड अधिकारी रीना छिंपा, भानीपुरा थानाधिकारी मलकीयत सिंह सहित कई लोगों ने शोक संतप्त परिजन को सांत्वनाएं दी।

suresh bharti Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned