चंबल बजरी परिवहन रोकने को लेकर 'टाइगर के तेवर तल्ख

-राजाखेड़ा के घाटों का एसपी ने लिया जायजा, डकैत मुकेश ठाकुर गिरोह की भी चप्पे-चप्पे पर तलाश

सुप्रीम कोर्ट से प्रतिबंधित अवैध चंबल बजरी की निकासी पर रोक लगाने के बाद भी हो रहे बजरी के परिवहन को रोकने के लिए पुलिस ने तैयारी कमर कस ली है। जिला पुलिस अधीक्षक केसर सिंह शेखावत ने स्वयं दल-बल के साथ घूमते हुए बजरी परिवहन के रास्तों का निरीक्षण किया

By: Dilip

Published: 12 Feb 2021, 12:30 AM IST

धौलपुर. सुप्रीम कोर्ट से प्रतिबंधित अवैध चंबल बजरी की निकासी पर रोक लगाने के बाद भी हो रहे बजरी के परिवहन को रोकने के लिए पुलिस ने तैयारी कमर कस ली है। जिला पुलिस अधीक्षक केसर सिंह शेखावत ने स्वयं दल-बल के साथ घूमते हुए बजरी परिवहन के रास्तों का निरीक्षण किया और राजाखेड़ा क्षेत्र के चंबल के घाटों का जायजा लिया और स्थानीय पुलिस को आवश्यक निर्देश दिए। एसपी ने स्थानीय ग्रामीणों से सहयोग का भी आग्रह किया।

एकाएक रूके बजरी के वाहन
चंबल बजरी के अवैध परिवहन पर बुधवार को पुलिस की औचक कार्रवाई के बाद गुरूवार को शहरी क्षेत्र और हाइवे पर पुलिस की सख्ती के बाद बजरी वाहनों की आवाजाही देखने को नहीं मिली। इस दौरान शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में पुलिस की सर्तकता नजर आई।

आमजन को मिली राहत
बजरी वाहनों की शहरी आबादी क्षेत्र में रूक जाने पर आमजन को राहत मिली है। इससे पूर्व बजरी वाहनों के लगातार निकलने के कारण राहगीरों में दुर्घटना का भय रहता था और शहर में भय का माहौल बना रहता है, जिससे फिलहाल लोगों को राहत मिल गई है।

एसपी ने लिया व्यवस्थाओं का जायजा
जिला पुलिस अधीक्षक केसर सिंह शेखावत ने पुलिस अधिकारियों के साथ गुरूवार को राजाखेड़ा पहुंचे। यहां एसपी ने पुलिस टीम के साथ चंबल के घाटों पर पहुंच कर ग्रामीणों से पूछताछ की। इस दौरान ग्रामीणों से अवैध बजरी के परिवहन को रोकने और बजरी व्यापार में संलिप्त लोगों को चिन्हित करने की जानकारी उपलब्ध कराने को कहा।

राजाखेड़ा क्षेत्र में सक्रिय है बजरी माफिया

सूत्रों ने बताया कि राजाखेडा उपखंड की आधा दर्जन चंबल के घाटों पर चंबल बजरी का खनन होता है। उपखंड में समोना, गढी टिडवली, बसई घीयराम, दगरा, गढी जाफर के अलावा दिहोली थाना क्षेत्र के अनेक घाट पिछले कई दशकों से संघटित बजरी उत्खनन के बड़े केंद्र है । उत्तर प्रदेश के आगरा जिले की सीमा से कस्बा सटा होने के कारण परिवहन में भी कोई परेशानी नहीं आती है। क्षेत्र की भौगोलिक हालात तो हमेशा ही बजरी माफियाओं के गहन अनुकूल रहे हैं। इसके अलावा स्थानीय पुलिस पर भी अप्रत्यक्ष रूप से माफियाओं को संरक्षण देने के आरोप भी लगते रहे है।
डकैत मुकेश गिरोह की भी तलाश

प्रतिबंधित चम्बल बजरी माफियाओं के साथ-साथ कुख्यात डकैत मुकेश ठाकुर एवं अन्य बदमाशों की धड़पकड के लिए पुलिस अधीक्षक केसर सिंह शेखावत ने स्वयं मोर्चा संभालते हुए राजाखेड़ा क्षेत्र के चम्बल इलाके में बजरी के निकासी वाले घाटों व वैकल्पिक रास्तों पर सर्चिंग अभियान चलाया। इस दौरान शेखावत ने पुलिस टीम के साथ सिकन्दरपुर गांव से चम्बल के किनारे-किनारे गढी जाफर तक लगभग 15 किलोमीटर तक पैदल रेतीले कच्चे रास्तों में सर्चिंग की। सर्च अभियान के दौरान मनियां पुलिस उपाधीक्षक मनोज कुमार गुप्ता, डीएसटी टीम प्रभारी लोकेन्द्र सिंह थानाधिकारी राजाखेडा हनुमान सहाय, थानाधिकारी मनियां सुमन कुमार, आरएसी कमांडो सहित पुलिस लाइन का भारी संख्या में पुलिस जाब्ता मौजूद रहा। एसपी शेखावत के साथ भारी संख्या में पुलिस बल एवं कल धौलपुर में हुई कार्यवाही की सूचना के बजरी माफियाओं में हडकंप मच गया है जिससे वे भूमिगत हो गए है। पुलिस टीम ने चम्बल बजरी माफियाओं को चिन्हित भी किया है। चम्बल बजरी की निकासी व परिवहन की रोकथाम के लिए रास्तों को जेसीबी से खुदवा कर बंद कराया गया है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned