मार्बल नगरी किशनगढ़ में रेलवे ट्रेक पर आवाजाही : मौत की नहीं परवाह

समय की बचत व छोटे मार्ग को लेकर रेलवे ट्रैक से आवाजाही कर रहे लोग,कई बार दुर्घटना में लोग गंवा चुके जान,फिर भी नहीं थमी आवाजाही,अजमेर, किशनगढ़,ब्यावर,बिजयनगर व नसीराबाद स्थित रेलवे स्टेशनों पर पटरियां पार कर लोगों की आवाजाही जारी

By: suresh bharti

Published: 01 Mar 2020, 06:59 PM IST

अजमेर. रेलवे ट्रेक पर हादसे थम नहीं रहे। इसमें कई लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। मोबाइल पर बात करते,जल्दी में गंतव्य स्थान पर पहुंचने,छोटे रास्ते का विकल्प होने व समय की बचत के लालच में लोग रेलवे ट्रेक पार कर जान जोखिम में डाल रहे हैं।

मार्बल नगरी किशनगढ़ में डीएफसी ट्रेक पर भी मालगाडिय़ों का आवागमन शुरू हो गया है। चारों रेलवे ट्रेक पर टे्रनों का आवागमन होने के बावजूद लोगों की आवाजाही कम नहीं हो रही। ऐसे में हादसे की आशंका बनी रहती है। अजमेर जंक्शन पर ही ऐसी ही स्थिति है।

किशनगढ़ शहर के बीचोंबीच गुजर रहे रेलवे ट्रेक के साथ-साथ डीएफसी ट्रेक पर भी दिन में चार पांच मालगाडिय़ों का संचालन हो रहा है। अगले कुछ माह में यहां मालगाडिय़ों का संचालन और बढ़ जाएगा। यहां रेलवे ट्रेक पर हाल ही में एक युवक की मृत्यु हो गई। इसके बावजूद लोग इससे सबक नहीं ले रहे। कई युवक ट्रेक पर बैठे रहते हैं तो कई पटरी पार करते देखे ा रहे हैं।

लोगों की मजबूरी

किशनगढ़ में इस रेलवे ट्रेक को पार करने के लिए लोगों की मजबूरी बनी हुई है। रूपनगढ़ रोड आरओबी पर सीढिय़ों का अभाव है। यहां सीढिय़ां नहीं बनाई गई है। आरओबी पर चढक़र पैदल चलकर पार करना मुश्किल है।

घनी आबादी क्षेत्र

रूपनगढ़ रोड आरओबी से लेकर कृष्णापुरी क्षेत्र तक रेलवे ट्रेक के दोनों ओर घनी आबादी क्षेत्र है। सांवतसर और कृष्णापुरी आरयूबी बनने से क्षेत्रवासियों को काफी राहत मिली है,लेकिन अभी भी मालियों की ढाणी और रूपनगढ़ रोड आरओबी के पास राहगीरों के आवागमन का कोई विकल्प नहीं है।

आरयूबी की आवश्यकता

पुराने रेलवे स्टेशन परिसर और मालियों की ढाणी के पास आरयूबी की आवश्यकता बनी हुई है। पुराने रेलवे स्टेशन परिसर में आरयूबी बन जाए तो राहगीरों को आवागमन का विकल्प मिल जाएगा। इसी तरह मालियों की ढाणी क्षेत्र के पास से सुभाष कॉलोनी राममंदिर तक आरयूबी निर्माण की मांग है।

विकल्प का अभाव परेशानी

रूपनगढ़ रोड आरओबी के पास और मालियों की ढाणी क्षेत्र के पास राहगीरों को रेलवे ट्रेक पार करने का कोई विकल्प ही नहीं है। इसके चलते हादसे हो रहे हैं।

suresh bharti Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned