scriptTruth of the viral list became the suffocation of the district police | वायरल सूची का 'सच' बना जिला पुलिस की गलफांस! | Patrika News

वायरल सूची का 'सच' बना जिला पुलिस की गलफांस!

शहर में सट्टे के आबाद ठिकानों और सटोरियों की खुली पोल ने पकड़ा तूल, सूची में शामिल महिला पार्षद की लिखित शिकायत पर जांच शुरू

अजमेर

Published: December 23, 2021 02:03:44 am

अजमेर.

शहर में सट्टा कारोबार को लेकर मचे घमासान में सोशल मीडिया पर वायरल हुई सूची ने तूल पकड़ लिया है। सटोरियों की सूची में शामिल नैत्री ने मामले में क्लॉक टावर थाने में शिकायत दी है। जिसमें सोशल मीडिया पर वायरल सूची में नाम शामिल किए जाने को मान-सम्मान को ठेस पहुंचाने वाला बताया गया। पुलिस ने शिकायत को परिवाद में रखकर जांच में लिया है।
वायरल सूची का 'सच' बना जिला पुलिस की गलफांस!
वायरल सूची का 'सच' बना जिला पुलिस की गलफांस!
मैं समाजसेवी, सटोरिया नहीं. . .

बुधवार को शहर की महिला वार्ड पार्षद व राष्ट्रीय पार्टी की पदाधिकारी ने सटोरियों की सूची में स्वयं का नाम शामिल किए जाने के विरुद्ध क्लॉक टावर थाने में दी शिकायत में बताया कि 21 दिसम्बर को सोशल मीडिया पर वायरल की गई शहर के कथित सटोरियों की सूची में दूसरे नम्बर पर उसका नाम शामिल किया है। इससे समाज में उसके मान, सम्मान को ठेस पहुंची है। वह सालों से राजनीति के साथ विभिन्न सामाजिक संगठनों से जुड़कर समाज सेवा कर रही है। लेकिन सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर प्रकाशित सूची से उसका नाम शामिल किया जाना अपराध की श्रेणी में आता है।
आखिर सूत्रधार है कौन?
महिाला पार्षद ने सोशल मीडिया पर वायरल सूची के संबंध में पुलिस से सूत्रधार की तलाश कर कार्रवाई की मांग की। उन्होंने शिकायत में लिखा कि बिना पुष्टी किए ही उसका नाम सूची में प्रकाशित किया जाना गलत है। उसने झूठी सूची प्रकाशित करने वालो के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दर्ज कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की।
इनका कहना है...

नैत्री ने क्लॉक टावर थाने में लिखित में शिकायत दी है। शिकायत को जांच में रखा गया है।
विकास शर्मा, पुलिस अधीक्षक

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.