scriptUnable to find eligible applicants for BSUP houses | बीएसयूपी आवासों के लिए नहीं ढूंढ पा रहे पात्र आवेदक | Patrika News

बीएसयूपी आवासों के लिए नहीं ढूंढ पा रहे पात्र आवेदक

बीएसयूपी आवासों का निर्माण जल्द करे सरकार: भदेल

अजमेर

Published: March 29, 2022 06:54:25 pm

अजमेर. पिछले 10 सालों से अधूरे चल रहे भगवानगंज, बीएसयूपी क्वार्टर निर्माण का मामला विधानसभा में गूंजा है। अजमेर दक्षिण विधायक अनिता भदेल ने सोमवार को विधानसभा में स्थगन प्रस्ताव नियम 50 के तहत् भगवानगंज, बीएसयूपी क्वार्टर निर्माण में हो रही देरी को लेकर सदन में मुद्दा उठाया। विधायक भदेल ने सदन में कहा कि अजमेर विकास प्राधिकरण की उदासीनता के चलते आम आदमी से जुडी योजनाओ का क्या हाल होता हैं इसकी मिसाल एक दशक से भी पुरानी शहरी गरीबो के लिए मूलभूत सेवा योजना बीएसयूपी है।
शहरी गरीबो के लिए 21 मार्च 2007 को बीएसयूपी योजना स्वीकृत हुई जिसके तहत् केन्द्र सरकार ने 64.45 करोड स्वीकृत किए थे। परियोजना के तहत् केन्द्र सरकार से अब तक 50 करोड रुपए भी प्राप्त हुए है। उनमें से राज्य सरकार ने 46 करोड 3 लाख रुपए खर्चे कर भगवानगंज में 224 मकान बनाए गए, लेकिन यह अधूरे है। इन आवासों का आवंटन किया जाना शेष है।
आवेदक लगा रहे चक्कर
ajmer
ajmer
विधायक भदेल ने कहा कि आवेदक आवंटन के लिए प्राधिकरण के लगातार चक्कर लगा रहे है। भगवानगंज में गरीबो के लिए 224 आवासो का निर्माण शुरु हुए 10 साल से अधिक समय बीत गया पर प्राधिकरण द्वारा अभी तक भी इन आवासो का निर्माण कार्य पूरा कर गरीबो को आवंटित नही किया जा सका।
आवास हो रहे जर्जर
जिन पात्र परिवार को आवास देने थे उन पात्र परिवार को अभी तक आवास नही मिल पाए है ओर उस वजह से जितना काम किया था खिडकी, नल, दरवाजे सारी चीजे असामाजिक तत्व निकाल कर ले गए जो 46 करोड रुपए इस योजना में क्वार्टर बनाने में खर्चे किया गया अब वह आवास पूर्ण रुप से जर्जर हो चुके है।
नहीं ढूंढ पा रहे पात्र आवेदक
विधायकभदेल ने कहा कि 101 पात्र परिवारो द्वारा आवेदन करने पर उनके द्वारा 12 हजार रुपए की राशि जमा कराने पर भी सभी 101 पात्र परिवारो को आवास आवंटित नही हो पाए हेै। प्राधिकरण द्वारा 123 चयनित परिवार को नही ढूंढा जा सका गया है। उन्होने कहां कि 101 पात्र परिवार जो मिल गए है उनको भी प्राधिकरण आवास नही दे सका। इससे केन्द्र व राज्य सरकार का जो 46 करोड रुपया खर्च हुआ है उस राशि का उपयोग नही हो पा रहा है। भदेल ने कहां कि पात्र परिवारो को शीघ्र आवास आवंटन कराने के साथ ही शेष 123 आवास बने हुए उन पर भी शीघ्र कार्यवाही की जाए।
राजस्थान पत्रिका ने प्रमुखता से उठाया मामला
शहरी गरीबों के आवास निर्माण में देरी का मामला मामला राजस्थान पत्रिका ने प्रमुखता से उठाया है। ठेकेदारी की मनमानी तथा अफसरों की ठिलाई भी खबरों के जरिए उजागर की गई। हाल ही प्राधिकरण ने इन आवासों को स्वंय के स्तर पर निर्माण का निर्णय लिया है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.