पैंथर की आहट से ग्रामीणों में घबराहट

श्रीनगर व भिनाय क्षेत्र में कई ग्रामीणों ने जंगल में देखी पैंथर चहल-कदमी, वन विभाग ने कहा-नुकसान से बचाने के पूरे प्रयास,वन्यजीव को कहीं भी विचरण का अधिकार

अजमेर. जिले में कई स्थानों पर पैंथर की सक्रियता ने लोगों में भय पैदा हो गया। अभी भिनाय की रैण घाटी का मामला ताजा ही है। मंगलवार को श्रीनगर पंचायत समिति क्षेत्र के ग्राम लीरी का बाडिय़ा में पैंथर की आहट से ग्रामीणों में भय व्याप्त हो गया।

कुछ चरवाहों ने जंगल में अज्ञात हिंसक जानवर को देखा,जबकि कुछ किसानों ने पैथर की सक्रियता बताई है। लीरी का बाडिय़ा निवासी मंगल नाथ, मेवानाथ, रामनाथ, महेन्द्र नाथ, धर्मसिंह, छोटूसिंह व मोतीनाथ के अनुसार दो दिन से पैंथर बाड़े में घुसकर बकरियों पर हमला कर रहा है।

रात में बकरियों व भेड़ों के मिमियाने से यह आशंका और भी बढ़ गई। जितेन्द्र नाथ को पिछले दिनों रात ९ बजे एक पैंथर पंखे वाले कुएं के पास दिखा बताया। इसकी सूचना भी वन विभाग को दी गई।

वन विभाग मुस्तैद

ग्रामीणों के अनुसार खेत की रखवाली करने व मवेशी चराने जंगल में जाने से लोग कतरा रहे हैं। दूसरी ओर नसीराबाद स्थित वन विभाग के रेंजर जितेन्द्र सिंह राठौड़ ने बताया कि लीरी का बाडिय़ा में पैंथर की सक्रियता की सूचना पर वनकर्मियों को बता दिया है जो मुस्तैद हैं।

उन्होंने बताया कि वन्यजीव कहीं भी विचरण कर सकता है। शिकार की तलाश में उसकी स्वतंत्रता में बाधा नहीं डाली जा सकती, लेकिन किसी को व्यक्तिगत हानि न हो पाए। इसकी रोकथाम के लिए वन विभाग प्रयास कर रहा है।

suresh bharti Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned