पिछले साल से आधा रह गया बीसलपुर बांध में पानी

बारिश नहीं हुई तो अजमेर, जयपुर व टोंक जिले में गहरा सकता है जल संकट

 

By: baljeet singh

Published: 21 Jul 2021, 09:08 PM IST

अजमेर संभाग के सबसे बड़े बीसलपुर बांध पर मानसून सत्र का लगभग एक माह गुजरने के बाद भी बांध के जल भराव व केचमेंट एरिया में बारिश नहीं होने के कारण अभी तक मानसून का ग्रहण जारी है। बीसलपुर बांध में अब तक पानी की आवक नहीं के बराबर रही है, जिसके चलते बांध से जलापूर्ति व वाष्पीकरण को लेकर लगातार बांध का गेज गिरता जा रहा है। बीसलपुर बांध के कंट्रोल रूम के अनुसार बांध का गेज मंगलवार को गत वर्ष 20 जुलाई 2020 के गेज के आंकडे के अनुसार अभी आधा पानी ही बांध में रह गया है। बीसलपुर बांध के अधिशासी अभियंता मनीष बंसल ने बताया कि मंगलवार सुबह 6 बजे तक बांध का गेज 309.43 आर एल मीटर दर्ज किया गया है। जिसमें 9 .23 टीएमसी पानी का कुल भराव है। वहीं गत वर्ष 20 जुलाई 2020 को बांध का गेज 312. 72 आर एल मीटर दर्ज किया गया था, जिसमें 21.01 टीएमसी पानी का भराव था। गत वर्ष जुलाई माह में बांध के जलभराव व केचमेंट एरिया में मानसून जल्दी ही सक्रिय हो गया था, जिससे बांध के जल भराव में सहायक बनास, खारी व डाई नदियों में पानी की आवक शुरू हो चुकी थी। इसी प्रकार 2019 के दौरान बांध के जलभराव में पानी की आवक काफी तेज होने के चलते बांध छलक पड़ा था, वहीं काफी लंबे समय तक बांध से बनास में पानी की निकासी की गई थी, जिसके चलते बांध का गेज गत वर्ष काफी कम टूट पाया था, वहीं गत वर्ष मानसून की बेरुखी के चलते बांध में पानी की आवक काफी कम हुई थी। वहीं इस बार फिर से मानसून की बेरुखी के चलते अब तक बांध के गेज में काफी कम बढ़ोतरी दर्ज की जा रही है।

860 एमएलडी पेयजल में खर्च
बीसलपुर बांध परियोजना से जयपुर अजमेर टोंक जिले में पेयजल के दौरान रोजाना बांध से लगभग 860 एमएलडी पानी लिया जा रहा है। बीसलपुर बांध के अजमेर जलापूर्ति के सहायक अभियंता रामनिवास जांगिड़ ने बताया कि अजमेर सहित जिले की गांव ढाणियों जलापूर्ति के लिए बांध से 305 एमएलडी पानी रोजाना लिया जा रहा है। इसी प्रकार बीसलपुर टोंक उनियारा पेयजल परियोजना से जुड़े देवली, टोंक व उनियारा शहरो के साथ ही इनसे जुड़े 400 से अधिक गांव ढाणियों में जलापूर्ति के लिए बीसलपुर बांध से रोजाना 55 एमएलडी पानी लिया जा रहा है, जिसे बारिश के मौसम को मध्य नजर रखते हुए पानी की मांग घटने से अभियंताओं की ओर से पानी कम किए जाने का प्रयास जारी है । इसी प्रकार जयपुर शहर व ग्रामीण क्षेत्र में जलापूर्ति के लिए 500 एमएलडी पानी लिया जा रहा है जिसमें जयपुर शहर के साथ ही चाकसू, दूदू , मालपुरा आदि क्षेत्र शामिल है।

baljeet singh
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned