scriptWeak third eye in the city, not only high resolution cameras | शहर में कमजोर तीसरी आंख, हाई रेजोलेशन कैमरे ही नहीं, ऐसे कैसे रखें नजर | Patrika News

शहर में कमजोर तीसरी आंख, हाई रेजोलेशन कैमरे ही नहीं, ऐसे कैसे रखें नजर

- घटनाओं के बाद अक्सर रह जाते हैं हाथ मलते - शहर के आधे स्थानों पर नहीं लग पाए हैं कैमरे - 396 स्थानों पर लगने हैं, 133 स्थानों पर ही लगे

शहर में आपराधिक गतिविधियों पर नजर रखने के लिए बनाए गए अभय कमाण्ड सेंटर का अभी आधे शहर पर भी कमाण्ड स्थापित नहीं हो पाया है। शहर में अभी तक आधे से भी कम सीसीटीवी कैमरे स्थापित कर पाए हैं। ये कैमरे भी शहर के एक भाग तथा कुछ सरकारी कार्यालयों को ही कवर कर रहे हैं।

अजमेर

Updated: April 21, 2022 12:31:50 am

धौलपुर. शहर में आपराधिक गतिविधियों पर नजर रखने के लिए बनाए गए अभय कमाण्ड सेंटर का अभी आधे शहर पर भी कमाण्ड स्थापित नहीं हो पाया है। शहर में अभी तक आधे से भी कम सीसीटीवी कैमरे स्थापित कर पाए हैं। ये कैमरे भी शहर के एक भाग तथा कुछ सरकारी कार्यालयों को ही कवर कर रहे हैं। इससे शहर के अन्य भागों में तो होने वाली आपराधिक गतिविधियों का पता लगाना ही संभव नहीं है। ऐसे में निजी तौर पर लगे हुए सीसीटीवी कैमरों के भरोसे ही पुलिस रहती है, लेकिन जब बड़ी वारदात हो जाती है तो वे भी कैमरे भी बंद मिलते हैं। ऐसे में आपराधिक गतिविधियों के सबूत नहीं जुट पाते हैं।
Private CCTV cameras of the city will be connected to the police network, will be monitored everywhere
Private CCTV cameras of the city will be connected to the police network, will be monitored everywhere
यह है कारण

राज्य सरकार ने आपराधिक गतिविधियों पर अंकुश लगाने तथा नजर रखने के लिए जिला मुख्यालय पर ‘तीसरी आंख’ लगाने का निर्णय किया था। इसके मद्देनजर अगस्त 2018 में अभय कमाण्ड सेंटर की स्थापना भी कर दी। अभी तक शहर में 133 सीसीटीवी कैमरे ही ‘लाइव’ हैं। जबकि शहर में कैमरे लगाने का आंकड़ा 396 है। इनमें से फिजीबिलिटी 300 की बताई जा रही है।
कछुआ चाल से चल रहा है फाइबर बिछाने का कार्य

कैमरे नहीं लगने के पीछे शहर में फाइबर केबल बिछाने की कछुआ चाल है। जिस कम्पनी को ठेका दिया हुआ है। उसके कर्मचारियों की ओर से धीमी गति से कार्य किया जा रहा है। इसके चलते फाइबर का कार्य ही पूरा नहीं हो पा रहा है। उच्चाधिकारियों के दबाव के बाद कम्पनी ने पुराने कर्मचारियों को हटा दिया और नए कर्मचारियों को लगा दिया है, लेकिन फाइबर कार्य में देरी लगातार हो रही है। जब तक फाइबर नहीं बिछेगी, तब तक कनेक्टिविटी भी नहीं मिल पाएगी।
गोदाम में रखे हैं कैमरे

कम्पनी की ओर से शीघ्र ही फाइबर बिछाने का वादा करने के कारण कैमरे भी मंगा लिए गए, लेकिन अब बिना कनेक्टिविटी कैमरे नहीं लगाए जा सकते हैं। इसलिए सिर्फ पोल तो खड़े कर दिए गए हैं, लेकिन चोरी होने के भय से कैमरे नहीं लगाए जा सके हैं।
इन प्रमुख स्थानों पर हैं जरूरत

शहर के प्रमुख स्थानों पर अब तक कैमरे नहीं लग पाए हैं। इनमें गुलाब बाग चौराहा, जगदीश टॉकीज, कृषि उपज मण्डी, औंडेला मार्ग, लाल बाजार, पुराना डाकखाना चौराहा, जगन टॉकीज, हरदेव नगर चौराहा, गौरव पथ, पैलेस रोड, तोप तिराहा, गडरपुरा, जिरौली फाटक आदि स्थान शामिल हैं। जहां पर भीड़ भाड़ अधिक रहती है। साथ ही लूटपाट की वारदात की आशंका रहती है। गत माह मोदी तिराहे पर एक दुकान और स्टेशन रोड पर एक मेडिकल स्टोर से लूट की वारदात का कोई खुलासा नहीं हो सका है। इससे साफ पता लग रहा है कैमरे लगाने की सही प्रकार से योजना नहीं बनाई गई। ऐसे में कैमरे लगे होने के बावजूद पुलिस व आमजन को कोई लाभ नहीं मिल पा रहा है।
इनका कहना है

फाइबर लाइन बिछाने का कार्य अधूरा होने के कारण कनेक्टिविटी नहीं मिल पा रही है। ऐसे में पोल पर कैमरे नहीं लगा सकते हैं। शहर में बस स्टैंड, कलक्टर निवास और सामान्य चिकित्सालय पर कैमरे लगाए गए हैं।
- अरविंद शर्मा, नेटवर्किंग इंजीनियर, अभय कमाण्ड सेंटर, धौलपुर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: अपनी पत्नी पर खूब प्रेम लुटाते हैं इस नाम के लड़केबगैर रिजर्वेशन कर सकेंगे ट्रेन में यात्रा, भारतीय रेलवे ने जारी की सूचीनाम ज्योतिष: इन 3 नाम की लड़कियां जहां जाती हैं वहां खुशियों और धन-धान्य के लगा देती हैं ढेरजून का महीना किन 4 राशियों की चमकाएगा किस्मत और धन-धान्य के खोलेगा मार्ग, जानेंधन के देवता कुबेर की इन 4 राशियों पर हमेशा रहती है कृपा, अच्छा बैंक बैलेंस बनाने में रहते है कामयाबआपके यहां रहता है किराएदार तो हो जाएं सावधान, दर्ज हो सकती है एफआईआर24 हजार साल ठंडी कब्र में दफन रहा फिर भी निकला जिंदा, बाहर आते ही बना दिए अपने क्लोनअंक ज्योतिष अनुसार इन 3 तारीख में जन्मे लोगों के पास खूब होती है जमीन-जायदाद

बड़ी खबरें

Uniform Civil Code: मोदी सरकार का अगला एजेंडा है समान नागरिक संहिता, उत्तरखंड से शुरुआत, राज्यों में मंथनआज केरल में दस्तक दे सकता है मानसून, यूपी-बिहार सहित कई जगह बारिश का अलर्टभारत और बांग्लादेश के बीच 2 साल बाद फिर शुरू हुई ट्रेन, कोलकाता से हुई रवानाब्राजील में लैंडस्लाइड और बाढ़ से 31 की मौत, हजारों लोग हुए बेघरIPL 2022 के समापन समारोह में Ranveer Singh और AR Rahman बिखेरेंगे जलवा, जानिए क्या कुछ खास होगाArmy Recruitment Change: 'टूअर ऑफ ड्यूटी' के तहत 4 साल के लिए होंगी भर्तियां, फिर 25% युवाओं का पूर्ण चयनRBI की रिपोर्ट का दावा - 'आपके पास मौजूद कैश हो सकता है नकली'भारत बन सकता है Vehicle Scrapping का हब, हर जिले में शुरू होंगे 2 से 3 व्हीकल स्क्रैपेज सेंटर : नितिन गडकरी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.