scriptweather report: clouds scatter, No Sunshine in ajmer | Weather report: छाए बादल, सर्द हवा से बढ़ी कंपकंपी | Patrika News

Weather report: छाए बादल, सर्द हवा से बढ़ी कंपकंपी

बादलों के चलते खुलकर धूप नहीं निकली। लोग गर्म कपड़ों में लिपटे नजर आए।

अजमेर

Published: December 05, 2021 04:44:26 pm

अजमेर.

दिसंबर के शुरुआत में मौसम लगातार बदल रहा है। रविवार सुबह फिर बादलों ने डेरा जमा लिया। सर्द हवा से कंपकंपी बनी रही। बादलों के चलते खुलकर धूप नहीं निकली। लोग गर्म कपड़ों में लिपटे नजर आए। अधिकतम तापमान 22. 2 और न्यूनतम 11.2 डिग्री सेल्सियस रहा।
weather
clouds in ajmer,clouds in ajmer
सुबह से आसमान को बादलों की टुकडिय़ों ने घेर लिया। चमकदार धूप नहीं निकली। हवा में ठंडापन महसूस हुआ। लोग तेज धूप को तरसते रहे शाम होते-होते मौसम में सर्दी का असर बढ़ गया। सड़कों पर कई जगह लोग अलाव के सहारे सर्दी से राहत पाते दिखे। रात के पारे में करीब 8 डिग्री की कमी बनी हुई है।
मौसम में आगे क्या

पर्वतीय इलाकों में हो सकती है बर्फबारी

घना कोहरा और पाला पडऩे की संभावना

कई इलाकों में न्यूनतम तापमान में गिरावट

राजस्थान सहित कई राज्यों में मावठ
बदल गई तीन सरकार, 11 साल में भवन हुआ बर्बाद

अजमेर. भवनों की बर्बादी देखनी हो तो महर्षि दयानंद सरस्वती विश्वविद्यालय चले आएं। यहां कई भवन अधूरे और बर्बाद पड़े हैं। इनका कोई धणी-धोरी नहीं है। ऐसा तब है जबकि विश्वविद्यालय ने भवनों पर लाखों रुपए खर्च किए हैं।
महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय में 2010 में तत्कालीन केंद्रीय संचार मंत्री और मौजूदा टोंक विधायक सचिन पायलट ने विक्रमादित्य भवन के निकट वाणिज्य विभाग के लिए महर्षि वशिष्ठ भवन का शिलान्यास किया था। भवन का निर्माण पहली मंजिल तक पहुंचने से पहले ही बंद हो गया। तबसे 11 साल बीत चुके हैं, लेकिन यह खंडहर में तब्दील हो गया है।
इस पर सचिन पायलट के नाम का शिलान्यास पट्ट अभी तक लगाई है। बनवा दिया नया भवनविवि प्रशासन ने कॉमर्स विभाग के लिए साल 2016 में चरक भवन के सामने नया कुबेर भवन बनवा दिया। शिलान्यास तत्कालीन शिक्षा मंत्री कालीचरण सरार्फ से कराया गया। इस भवन में मौजूदा वक्त वाणिज्य संकाय चल रहा है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.