बनने चले थे डॉक्टर, बन गए अपराधी!

-नीट-जेईई में मुन्नाभाई बनकर परीक्षा देने का मामला, गिरफ्तार आरोपियों में से छह मेडिकल कॉलेज के विद्यार्थी

By: manish Singh

Published: 14 Sep 2021, 02:33 AM IST

अजमेर. नीट-जेईई में पैसा लेकर कमजोर विद्यार्थियों को पास करवाने वाले गिरोह में शामिल हुए मेडिकल कॉलेज के छह विद्यार्थी डॉक्टर बनने से पहले अपराधी बन गए। आईजी अजमेर रेंज की स्पेशल टीम ने जयपुर के विभिन्न केन्द्रों से रविवार को छह अभ्यथियों को दबोचा। इसमें दो मेडिकोज छात्राएं शामिल हैं जो दलाल के साथ में कमजोर अभ्यर्थी के स्थान पर परीक्षा देने आई थी।

पुलिस के अनुसार गिरफ्त में आए चार युवक व दो युवतियां देश के विभिन्न मेडिकल कॉलेज के विद्यार्थी है। एमबीबीएस की पढ़ाई के साथ पैसा कमाने के लालच में यह मेडिकोज गिरोह का हिस्सा बन गए। यह मुख्य आरोपी व दलाल राजन राजगुरू राजपुरोहित के इशारे पर परीक्षा देने जयपुर आए थे। वे अपने मंसूबों में लगभग कामयाब भी हो गए लेकिन पुलिस टीम ने उन पर लगातार नजर बनाए रखी। परीक्षा खत्म होने के साथ पुलिस उठाकर उन्हें अजमेर ले आई।

कौन-कहां से आया
गिरफ्त में आया छात्र सांवरमल व प्रवीण मंडा यूपी में बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय में वेटरनरी डॉक्टर की पढ़ाई कर रहे हैं जबकि अंकित यादव बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय में एमबीबीएस का छात्र है। प्रद्युमनसिंह एसजीआरआर मेडिकल कॉलेज देहरादून का छात्र है। छात्राओं में से एक देहरादून व दूसरी भरतपुर मेडिकल कॉलेज की छात्रा है। दोनों छात्राओं को दलाल अनोज बिजारणियां फर्जी अभ्यर्थी बनाकर परीक्षा दिलाने लाया था। पुलिस ने छात्राओं के नाम का खुलासा नहीं किया है।

गिरोह की अहम कड़ी में डॉ. राजन

शिक्षानगरी कोटा का रहने वाला राजन 2010 में राजस्थान प्री मेडिकल टेस्ट में मेरिट में दूसरे नम्बर पर रहा है। डॉ. राजगुरु ने कोटा के राजकीय मेडिकल कॉलेज से एमबीबीएस किया। वहां से डिग्री हासिल करने के बाद में 2018 में अभिनव राजस्थान पार्टी से विधानसभा का चुनाव लड़ा। पुलिस पड़ताल में सामने आया कि पूर्व में राजन चित्तौडगढ़ के कनेरा स्थित सरकारी चिकंत्सालय में मेडिकल ऑफिसर के पद पर कार्य कर चुका है। डॉ. राजन देशभर में अपना जाल फैला रखा है।
पूर्व में चार हो चुके गिरफ्तार

नीट-जेईई में धांधली में अब तक पुलिस गिरोह के 13 जनों को गिरफ्तार कर चुकी है। गिरोह में अहम भूमिका निभा रहे डॉ. राजन राजगुरु, दलाल व छात्र समेत 13 पकड़े जा चुके है। इसमें 6 फर्जी विद्यार्थी है। इससे पहले आईजी अजमेर रेंज की टीम ने दिल्ली, जयपुर व कोटा से अर्पित स्वामी, गजेन्द्र स्वामी, मोहम्मद तंजिल और योगेन्द्र स्वामी को गिरफ्तार किया था।

टीम में ये थे शामिल

आईजी सेंगाथिर ने अर्पित, गजेन्द्र, तंजिल से पूछताछ में मिली जानकारियों के आधार पर रविवार को एएसपी विमल नेहरा, निरीक्षक राजेन्द्र कमांडों, एएसआई पवन कुमार, उप निरीक्षक श्यामा नील, हैडकांस्टेबल ओमप्रकाश, जगदीश प्रसाद और सिपाही हरपाल, सांवरिया, दीपक, महिला कांस्टेबल मंजू को जयपुर रवाना किया। जयपुर पुलिस की मदद से डॉ. राजन समेत 9 जनों को गिरफ्तार किया।

manish Singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned