scriptWhere the minors are repaired, there is relief, they are damaged | जहां माइनरों की मरम्मत, वहां मिली राहत, कहीं पड़ी हैं क्षतिग्रस्त | Patrika News

जहां माइनरों की मरम्मत, वहां मिली राहत, कहीं पड़ी हैं क्षतिग्रस्त

बाड़ी क्षेत्र में सिंचाई के लिए मिल रहा पानी तो सैंपऊ में अभी इंतजार

रबी फसलों में सिंचाई के लिए पानी की आवश्यकता पडऩे के साथ ही सिंचाई विभाग माइनरों की मरम्मत में जुट गया है। ग्रामीण क्षेत्रों में वर्षों से क्षतिग्रस्त पड़ी माइनरों को विभागीय अधिकारियों ने सही कराना शुरू कर दिया है। कई जगहों पर मरम्मत कार्य पूरा हो चुका है तो कहीं लगातार जारी है।

अजमेर

Published: November 17, 2021 12:17:37 am

-धौलपुर/बाड़ी/सैंपऊ. रबी फसलों में सिंचाई के लिए पानी की आवश्यकता पडऩे के साथ ही सिंचाई विभाग माइनरों की मरम्मत में जुट गया है। ग्रामीण क्षेत्रों में वर्षों से क्षतिग्रस्त पड़ी माइनरों को विभागीय अधिकारियों ने सही कराना शुरू कर दिया है। कई जगहों पर मरम्मत कार्य पूरा हो चुका है तो कहीं लगातार जारी है। ऐसे में किसानों को भी सिंचाई के लिए पानी उपलब्ध होने से राहत मिलेगी। जिले में बाड़ी, सैंपऊ, सरमथुरा, बसई नवाब, कौलारी आदि क्षेत्रों में बांधों से पानी छोडऩे के लिए गांवों तक माइनर बनाई हुई हंै। यह हर बार क्षतिग्रस्त होने के कारण बांधों से भरपूर पानी छोडऩे के बाद भी किसानों को पर्याप्त पानी नहीं मिल पाता है। लेकिन इस बार जनप्रतिनिधियों की पहल पर विभागीय अधिकारियों ने सही करा दिया है। ऐसे में किसानों को भरपूर पानी मिलने की संभावना है। वहीं सैंपऊ क्षेत्र में अभी मरम्मत कार्य चल रहा है। ऐसे में कई माइनर क्षतिग्रस्त पड़ी हुई हैं। रामसागर बांध से 10 किलोमीटर परिधि में होती है सिंचाई बाड़ी उपखंड के बड़े जलाशय रामसागर बांध से तकरीबन 10 किलोमीटर की परिधि के खेतों की सिंचाई होती है। जिसके लिए विभिन्न माइनरों का निर्माण किया गया है। यह माइनर आसपास के ग्रामीण इलाकों जिनमें खानपुर, धनोरा, हांसई, सिंगौरई, सरमथुरा रोड पर स्थित खेतों आदि शामिल है। यह बांध इस क्षेत्र के खेतों में जलापूर्ति करता है। खराब पड़ी नहरों को कराया दुरस्त
जहां माइनरों की मरम्मत, वहां मिली राहत, कहीं पड़ी हैं क्षतिग्रस्त
जहां माइनरों की मरम्मत, वहां मिली राहत, कहीं पड़ी हैं क्षतिग्रस्त
रामसागर बांध से निकलने वाली नहरों में से जिन खेतों में पानी दिया जा रहा है। उन खेतों के मालिक के मालिकों ने बताया कि पिछले कई वर्षों से नहर टूटी थी। जिससे पानी व्यर्थ बह जाता था, लेकिन अब स्थानीय नेताओं तथा जिला प्रशासन के प्रयासों से सिंचाई विभाग द्वारा नहरों को दुरस्त करा दिया गया है। साथ ही नहरों की सफाई कराई गई है। 8 दिन पहले विधायक ने अधिकारियों को दी थी चेतावनी बाड़ी विधायक गिर्राज सिंह मलिंगा को क्षेत्र के किसानों ने नहरों के क्षतिग्रस्त होने, सफाई नहीं होने एवं पर्याप्त मात्रा में पानी न मिलने को लेकर शिकायत दी थी। जिसको लेकर विधायक द्वारा सिंचाई विभाग के अधिकारियों की बैठक ली और उनको 5 दिन में नहरों को दुरस्त कर एवं सफाई कराकर किसानों को अंतिम छोर तक पर्याप्त मात्रा में पानी देने को कहा गया। ऐसा नहीं करने पर सख्त कार्रवाई की चेतावनी भी दी गई थी। जिसको लेकर सिंचाई विभाग हरकत में आया और जिला कलक्टर की अनुशंसा पर नरेगा मद में से आवंटित हुई राशि में से नहरों की सफाई करा दी। अब क्षेत्र के किसानों को पर्याप्त मात्रा में पानी मिल सकेगा। बॉक्स ... कछुआ चाल से चल रहा मरम्मत कार्य सैंपऊ कस्बे से गुजरने वाली पार्वती नहर की माइनरों पर कछुए की चाल से मरम्मत कार्य चल रहा है। यह किसानों के लिए चिंता का विषय बना हुआ है। रबी की फसल का सिंचाई का समय नजदीक आ चुका है, लेकिन मरम्मत कार्य अभी पूर्ण नहीं हुआ है। जिसको लेकर किसानों की चिंता बढ़ी हुई है। ज्ञातव्य हो इस वर्ष वर्षा अधिक होने की वजह से तालाब में पानी का गेज पर्याप्त मात्रा में है, लेकिन नहर मरम्मत कार्य पूर्ण न होने की वजह से किसानों को समय पर पानी मिल पाना मुश्किल लग रहा है। माइनरों की टूटे हैं गेट
मुख्य नहर से निकलने वाली माइनरों के अधिकतर गेट टूटे पड़े हुए हैं। वहीं कुछ माइनरों में गेट ही नहीं हैं। जिससे माइनरों में या तो अधिक पानी जाता है या कम मात्रा में पानी रिलीज होता है। जिससे सिंचाई के समय किसानों को बड़ी समस्या का सामना करना पड़ता है।
इनका कहना है रामसागर बाध से निकलने वाली सभी नहरों की सफाई करा दी गई है। जितने भी कुलावे खुले हुए थे। उन सब को पूरी तरह बंद करा दिया गया है। किसानों के लिए सिंचाई के लिए पानी छोड़ दिया गया है। - राजकुमार सिंघल, कार्यवाहक अधिशासी अभियंता, जलसंसाधन विभाग, धौलपुर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Health Tips: रोजाना बादाम खाने के कई फायदे , जानिए इसे खाने का सही तरीकाCash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतSchool Holidays in January 2022: साल के पहले महीने में इतने दिन बंद रहेंगे स्कूल, जानिए कितनी छुट्टियां हैं पूरे सालVideo: राजस्थान में 28 जनवरी तक शीतलहर का पहरा, तीखे होंगे सर्दी के तेवर, गिरेगा तापमानJhalawar News : ऐसा क्या हुआ कि गुस्से में प्रधानाचार्य ने चबाया व्याख्याता का पंजामां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतAaj Ka Rashifal - 24 January 2022: कुंभ राशि वालों की व्यापारिक उन्नति होगीMaruti की इस सस्ती 7-सीटर कार के दीवाने हुएं लोग, कंपनी ने बेच दी 1 लाख से ज्यादा यूनिट्स, कीमत 4.53 लाख रुपये

बड़ी खबरें

Punjab Election 2022: गठबंधन के तहत BJP 65 सीटों पर लड़ेगी चुनाव, जानिए कैप्टन की PLC और ढींढसा को क्या मिलाराष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के विजेताओं से पीएम मोदी ने किया संवाद, 'वोकल फॉर लोकल' के लिए मांगी बच्चों की मददब्रेंडन टेलर का खुलासा, इंडियन बिजनेसमैन ने किया ब्लैकमेल; लेनी पड़ी ड्रग्ससंसद में फिर फूटा कोरोना बम, बजट सत्र से पहले सभापति नायडू समेत अब तक 875 कर्मचारी संक्रमितकर्नाटक में कोविड के 50 हजार नए मामले आने के बाद भी सरकार ने हटाया वीकेंड कर्फ्यू, जानिए क्या बोले सीएमसीएम योगी की जीत के लिए उज्जैन के श्मशान में हुई तंत्र साधना, बोले बाबा बमबमनाथ योगी का आना ज़रूरीगणतंत्र दिवस के ठीक बाद Tata ग्रुप की हो जाएगी एयर इंडियाICC Awards: शाहीन अफरीदी बने क्रिकेटर ऑफ द ईयर, पाकिस्तान के 3 खिलाड़ियों ने मारी बाजी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.