scriptWomen's pride: Grandfathers painting legacy continue by grand daughter | Women's pride: दादा ने शुरू की बंगाल पेंटिंग आर्ट, अब पोती बढ़ा रही आगे | Patrika News

Women's pride: दादा ने शुरू की बंगाल पेंटिंग आर्ट, अब पोती बढ़ा रही आगे

अपने माता-पिता के बाद दादा की 90 साल पुरानी बंगाल शैली चित्रकारी और विरासत को आगे बढ़ा रही हैं। उन्होंने कई नवाचार भी किए हैं।

अजमेर

Updated: November 28, 2021 09:59:36 am

रक्तिम तिवारी/अजमेर.

प्राचीन चित्रकारी-कला को पीढ़ी दर पीढ़ी आगे बढ़ते देखना हो तो मेयो गल्र्स कॉलेज की ड्राइंग और आर्ट शिक्षक माधवी हाजरा से बेहतरीन कोई उदाहरण नहीं हो सकता है। माधवी अपने माता-पिता के बाद दादा की 90 साल पुरानी बंगाल शैली चित्रकारी और विरासत को आगे बढ़ा रही हैं। उन्होंने कई नवाचार भी किए हैं।
bengal painting legacy
bengal painting legacy
ब्रिटिशकाल में स्थापित मेयो कॉलेज में 1930 में बंगाल से आए बी.सी. गुई ने छात्रों को चित्रकला सिखानी प्रारंभ की। वे प्राचीन बंगाल स्टाइल की लक्ष्मी-विष्णु, कृष्णलीला और सनातन परम्परा पर आधारित आर्ट के सिद्धहस्त चित्रकार रहे। गुई के नाम से मेयो कॉलेज में म्यूजियम बना हुआ है। इसमें प्राचीन और आधुनिक काल की पेंटिंग, वस्त्र और अन्य सामग्री संकलित की गई है।
पोती ने संभाली विरासत
अशोक हाजरा की पुत्री माधवी अपने दादा की 90 साल पुरानी चित्रकला शैली को आगे बढ़ा रही हैं। वे 1982-83 में स्कूली पढ़ाई से ड्रॉइंग एंड पेंटिंग से जुड़ी हुई हैं। माता-पिता से प्राचीन बंगाल शैली के चित्र बनाने का प्रशिक्षण लिया। इनमें राधा-कृष्णलीला, दुर्गा-काली अवतार, विष्णु-लक्ष्मी और अन्य पेंटिंग शामिल हैं। माधवी ने नवाचार करते हुए जलीय (तैल) चित्रों की कला विकसित की। खासतौर पर पारम्परिक और आधुनिक जलीय वनस्पति-जीवन आधारित चित्रों का फ्यूजन बनाया है।
माता-पिता ने बढ़ाया शैली को
गुई के बाद उनके पुत्र अशोक हाजरा ने 1977 में मेयो कॉलेज में चित्रकला विभाग को संभाला। उन्होंने भी समकालीन चित्रकला (कॉन्टेंपरेरी आर्ट) के तहत कृष्णलीला और प्राचीन बंगला शैली, कोलाज पेंटिंग को बढ़ावा दिया। हाजरा की पत्नी दीपिका सावित्री कॉलेज और मेयो कॉलेज गल्र्स स्कूल में चित्रकला विभागाध्यक्ष रहीं। उन्होंने भी समकालीन चित्रकारी के तहत बंगला शैली के भित्ति चित्रों, कृष्णलीला, सनातन परम्परा से जुड़ी पेंटिंग को आगे बढ़ाया। उन्होंने 1964-65 में कुलपति स्वर्णपदक हासिल किया।
घर भी पेंटिंग का म्यूजियम
हाजरा परिवार का नाका मदार स्थित घर भी पेंटिंग का मिनी संग्रहालय है। घर के ड्राइंग रूम से सीढिय़ों और प्रमुख दीवारों पर सैकड़ों पेंटिंग लगी हैं। आगंतुक को इन्हें देखने और समझने में एक से दो घंटे लगते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Video Weather News: कल से प्रदेश में पूरी तरह से सक्रिय होगा पश्चिमी विक्षोभ, होगी बारिशVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगश्री गणेश से जुड़ा उपाय : जो बनाता है धन लाभ का योग! बस ये एक कार्य करेगा आपकी रुकावटें दूर और दिलाएगा सफलता!पाकिस्तान से राजस्थान में हो रहा गंदा धंधाइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजहार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां

बड़ी खबरें

Corona Vaccine: वैक्सीन के लिए नई गाइडलाइंस, कोरोना से ठीक होने के कितने महीने बाद लगेगा टीकामुंबई: 20 मंजिला इमारत में भीषण आग में दो की मौत, राहत बचाव कार्य जारीयूपी की हॉट विधानसभा सीट : गुरुओं की विरासत संभालने उतरे योगी आदित्यनाथ और अखिलेश यादवदेश विरोधी कंटेंट के खिलाफ सरकार की बड़ी कार्रवाई, 35 यूट्यूब चैनल किए ब्लॉकGood News: प्रियंका चोपड़ा और निक जोनस बने माता-पिता, एक्ट्रेस ने पोस्ट शेयर कर फैंस को बताया- बेबी आया है...ओमिक्रॉन का कहर-20 दिन में 117 फ्लाइट्स कैंसिलसरकारी स्कूल में कोरोना विस्फोट, पांच छात्र समेत टीचर की रिपोर्ट पॉजिटिव, SDM ने एक सप्ताह के लिए स्कूल किया बंदलखीमपुर खीरी कांड में दूसरी चार्जशीट दाखिल, चार किसानों को बनाया आरोपी, तीन को राहत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.