एएमयू के प्रोफेसर ने Whatsapp पर पत्नी को भेजा ऐसा मैसेज, कि देखते ही हो गई बेहोश

एएमयू के प्रोफेसर ने Whatsapp पर पत्नी को भेजा ऐसा मैसेज, कि देखते ही हो गई बेहोश
whatsapp Message

Dhirendra yadav | Publish: Nov, 12 2017 02:31:16 PM (IST) | Updated: Nov, 13 2017 11:58:13 AM (IST) Aligarh, Uttar Pradesh, India

प्रोफेसर की पत्नी को जब होश आया, तो उसने बच्चों के साथ आत्मदाह करने की धमकी दी।

अलीगढ़। एएमयू के एक प्रोफेसर ने अपनी पत्नी को वॉट्स ऐप पर एक ऐसा मैसेज भेजा, कि वो बेहोश हो गई। जब होश आया, तो वह इतनी बुरी तरह आहत थी, कि आत्महत्या की धमकी दी । पत्नी ने अभी पुलिस से कोई शिकायत नहीं की है। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के करीब दो महीने पहले वॉट्स ऐप तथा एसएमएस से ट्रिपल तलाक को संविधान के विपरीत यानी असंवैधानिक घोषित करने के बाद भी इस पर रोक नहीं लग पा रही है।

आत्महत्या की दी धमकी
Aligarh Muslim University के प्रोफेसर खालिद बिन यूसुफ खान पर उनकी पत्नी यासमीन खालिद ने तलाक मिलने के बाद धमकी दी है कि अगर उसके साथ न्याय नहीं हुआ तो एएमयू के कुलपति तारिक मंसूर के घर के सामने बच्चों संग आत्महत्या कर लेंगी। एएमयू के एक प्रोफेसर ने अपनी पत्नी को वॉट्स ऐप पर तीन तलाक दिया है। बताया गया है, कि पति पत्नी के बीच का ये विवाद परिवार परामर्श केन्द्र में भी चल रहा है।

वॉट्सऐप पर और फिर एसएमएस के जरिए दिया तलाक
अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) के प्रोफेसर खालिद बिन यूसुफ खान पर उनकी पत्नी यासमीन खालिद ने आरोप लगाया है कि वह ट्रिपल तलाक की पीडि़त हैं और अगर उन्हें न्याय नहीं मिलता है तो वह अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर के घर के बाहर अपने सभी बच्चों के साथ आत्महत्या कर लेंगी। यासमीन ने बताया कि उनके पति प्रोफेसर खालिद यूसुफ ने उन्हें वॉट्सऐप पर और फिर एसएमएस के जरिए तलाक दिया है।

निकाल दिया घर से बाहर
यासमीन ने का आरोप है कि पति ने उसे घर से बाहर निकाल दिया। तब से वे न्याय के लिए इधर उधर भटक रहीं थीं। पुलिस की मदद से उन्हें दोबारा घर में प्रवेश मिला। उन्होंने ऐलान किया कि यदि 11 दिसंबर तक उन्हें न्याय नहीं मिलता है तो वह कुलपति तारिक मंसूर के घर के आगे अपने तीन बच्चों के साथ आत्महत्या कर लेंगी।


ये कहना है प्रोफेसर का
वहीं प्रोफेसर खालिद ने कहा कि मैंने केवल उसे वॉट्स ऐप या टेक्सट मैसेज के जरिए तलाक नहीं दिया, बल्कि दो लोगों के सामने और शरियत की अवधि का पालन करते हुए उसे तलाक दिया था। खालिद का कहना है कि वो खुद को इस मामले में असली पीडि़त मानते हैं। उन्होंने कहा कि यासमीन पिछले दो दशकों से उनका उत्पीडऩ कर रही है। यासमीन से उनके निकाह के दौरान काफी चीजें छुपाई गईं थीं। मुझे बाद में पता चला कि वह ग्रैजुएट भी नहीं है, जैसा उसने पहले दावा किया था।


ये कहना है एसएसपी का
एसएसपी अलीगढ़ राजेश कुमार पाण्डेय ने बताया कि यासमीन को घर में पहुंचा दिया गया है। उन्होंने बताया कि अभी यासमीन ने कोई शिकायत दर्ज नहीं कराई है इसलिए पुलिस कुछ ज्यादा कर नहीं सकती।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned