इन सरकारी विभागों में अब पेपर वर्क होगा खत्म, होने जा रही ये नई व्यवस्था

प्रभारी जिलाधिकारी दिनेश चन्द्र ने कलक्ट्रेट सभागार में ई आॅफिस पोर्टल बनाए जाने के संबंध में ली बैठक।

By: धीरेंद्र यादव

Published: 25 Apr 2018, 03:17 PM IST

अलीगढ़ प्रभारी जिलाधिकारी दिनेश चन्द्र ने कलक्ट्रेट सभागार में ई आॅफिस पोर्टल बनाए जाने से संबंधित बैठक को सम्बोधित करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा सभी सरकारी विभागों को पेपर लेस ई आॅफिस बनाए जाने का निर्णय लिया गया है, जिसके तहत आहरण वितरण अधिकारियों के अतिरिक्त कार्यालयों में तैनात सभी अधिकारी एवं ऐसे कर्मचारियों के डिजीटल सिग्नेचर बनाए जाएंगे, जिसके स्तर से पत्रावलियां प्रस्तुत होती हैं। उन्होंने बताया कि ई.आॅफिस के क्रियान्वयन के तहत सभी विभागों द्वारा अब तक 1200 अधिकारियों एवं कर्मचारियों की सूची डीएसटीओ को उपलब्ध कराई गई है। इस सूची को 30 अप्रैल तक अंतिम सूची का स्वरूप दिया जाना है। उन्होंने कहा कि सभी कार्यालय अध्यक्ष दोबारा अपने द्वारा प्रेषित सूची का परीक्षण कर दो दिन के अन्दर डीएसटीओ कार्यालय को उपलब्ध करा दें, ताकि योजना के प्रथम चरण का कार्य 30 अप्रैल तक पूरा किया जा सके।

डिजीटल सिग्नेचर
प्रभारी जिलाधिकारी दिनेश चन्द्र ने कहा कि ई.आॅफिस में कार्य करने वाले सभी कर्मचारियों एवं अधिकारियों का डिजीटल सिग्नेचर के साथ साथ ईमेल आईडी एनआईसी की वेबसाइट पर कल तक उपलब्ध करा दें, ताकि एनआईसी द्वारा बनाई गई ईमेल आईडी उन्हें उपलब्ध कराई जा सके। कर्मचारियों एवं अधिकारियों द्वारा बनाई गई निजी या जीमेल की आईडी नहीं चलेगी। उन्होंने कहा कि ई.आॅफिस के तहत कार्यालय में पूर्व की भांति फाइलों का मूवमेन्ट जिस प्रकार से होता रहा है, इसमें सभी कम्पोनेंट शामिल होंगे, लेकिन यह कार्य फाइल पर कागजों पर नहीं बल्कि ईमेल के माध्यम से किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इसके लिए सभी कार्यालयों में एक ईएमडी बनाया जाएगा, जो प्रभारी के रूप में कार्य करेगा। योजना के तहत जो नोटिंग.ड्राफ्टिंग सक्षम अधिकारी द्वारा प्रतिहस्ताक्षरित कर दी जाएगी उसे पुनः बदला नहीं जा सकता। आवश्यकता पड़ने पर उस नोटिंग से अलग दूसरी नोटिंग प्रस्तुत की जा सकेगी। उन्होंने यह भी बताया कि नोटिंग.ड्राफ्टिंग करने वाला कर्मचारी डिजीटल सिग्नेचर होने से पूर्व संशोधित तो कर सकता है, लेकिन कार्यालय अध्यक्ष के डिजीटल सिग्नेचर होने के पश्चात उसे बदला नहीं जा सकता।

धीरेंद्र यादव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned