जम्मू के उड़ी सेक्टर में अलीगढ़ का लाल शहीद, अंतिम दर्शन को उमड़ी भीड़

शहीद सुभाष चंद्र का पार्थिव शरीर एदलपुर गांव लाया गया, जहां शहीद के अंतिम दर्शन करने को भीड़ उमड़ पड़ी.

By: अमित शर्मा

Updated: 11 Dec 2017, 09:19 AM IST

Aligarh, Uttar Pradesh, India

अलीगढ़। कश्मीर के उड़ी सेक्टर में नौ ग्रमेडियर आर्मी में तैनात फौजी सुभाष चंद्र शहीद हो गए। बताया जा रहा है कि ड्यूटी के दौरान सुभाष चंद्र बांदी पुरा से उड़ी सेक्टर आ रहे थे इसी दौरान आतंकी हमले में गोली लगने से वह शहीद हो गए।

कई गांवों के लोग उमड़े अंतिम सलामी को

शहीद सुभाष चंद्र का पार्थिव शरीर रविवार को थाना खैर के एदलपुर गांव लाया गया। जहां कई गावों के लोग फौजी सुभाष चंद के अंतिम दर्शन को लोग उमड़ पड़े। प्रदेश सरकार के गन्ना मंत्री सुरेश राणा व सांसद सतीश गौतम, जिला प्रशासन की मौजूदगी में पुष्प चक्र अर्पित कर नम आंखों से सुभाष चंद्र को विदाई दी गई। इस मौके पर सेना के जवानों ने फायर कर सलामी भी दी।


मुख्यमंत्री योगी ने भेजी मदद

बता दें कि एदलपुर निवासी 45 वर्षीय सुभाष चंद्र 1999 में जबलपुर में भारतीय सेना में भर्ती हुए थे। 2015 में नौकरी पूरी होने के बाद चार वर्ष का सेवा विस्तार लिया था। फौजी सुभास की शहादत से गांव में शोक की लहर है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर गन्ना मंत्री सुरेश राणा मृतक फौजी के गांव में पहुंचे। उन्होंने कहा कि भारत माता के ऐसे लाड़ले सपूत पर गर्व है। गन्ना मंत्री ने कहा कि शहादत की कोई कीमत नहीं होती लेकिन मुख्यमंत्री की तरफ से 20 लाख रुपए पत्नी व बच्चों के लिए जबकि माता पिता के लिए पांच लाख रुपए दिए गये हैं। उनके गांव को जाने वाले मार्ग का नामकरण शहीद फौजी सुभाष चंद्र के नाम पर किया जाएगा।

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned