AMU प्रोफेसर पर लगा नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी का आरोप

स्थाई नौकरी लगवाने के एवज में ढाई लाख रुपए की मांग की। आरोप है कि ढाई लाख रुपए देने के बाद भी नौकरी नहीं लगवाई।

अलीगढ़। अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (AMU) के एक प्रोफेसर पर नौकरी दिलाने के नाम पर ढाई लाख रुपए की ठगी का आरोप लगा है। जिस युवक ने आरोप लगाया है वह एएमयू में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी के तौर पर काम करता था। युवक ने प्रोफेसर के खिलाफ अर्जी दाखिल कर मुकदमा दर्ज करने की मांग की है।

यह भी पढ़ें- दो पक्षों में फायरिंग, एक व्यक्ति को लगी गोली

दरअसल औरंगाबाद, बिहार निवासी मो. आमिर एएमयू में अस्थाई चपरासी के तौर पर काम कर रहा था। अब आमिर को नौकरी से निकाल दिया गया है। आमिर का आरोप है कि काम करने के कुछ दिन बाद प्रोफेसर ने उसके पिता मो. जिलानी से कहा था कि उसका बेटा अच्छा काम कर रहा है, वह उसे स्थायी करवा देगा। स्थाई नौकरी लगवाने के एवज में ढाई लाख रुपए की मांग की। आरोप है कि ढाई लाख रुपए देने के बाद भी नौकरी नहीं लगवाई बल्कि अस्थाई नौकरी से भी निकलवा दिया। मो. जिलानी ने मामले में कोर्ट और पुलिस अधिकारियों को अर्जी देकर मुकदमे की मांग की है।

यह भी पढ़ें- राष्ट्रपति की सुरक्षा में गुलेल तानकर खड़े रहे पुलिसकर्मी

वहीं प्रोफेसर का कहना है कि सभी आरोप बेबुनियाद हैं। शिकायतकर्ता उसके पैतृक गांव का है जिसकी मदद करते हुए अस्थाई चपरासी की नौकरी दिलाई थी। नौकरी लगने के कुछ महीनों बाद उसने निजी कार्य के लिए उधार रुपए मांग लिए। इनमें से कुछ रुपए वापस कर दिए। बाकी रुपए वापस न करने पढ़ें इसलिए झूठे आधारहीन आरोप लगा रहा है।

Show More
अमित शर्मा
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned