पीपल के पेड़ का पूजन कर लगाई परिक्रमा

परिवार के सुख-समृद्वि की कामना की, पारंपरिक विधि विधान से संपन्न हुआ दशामाता का पूजन

आलीराजपुर. परिवार की सुख-समृद्धि देने वाली तथा कर्मों की दशा बदलने वाली दशा माता का पूजन सोमवार को जिला मुख्यालय सहित जिले भर में महिलाओं द्वारा विधि-विधान पूर्वक किया गया। जिले भर में महिलाओं ने प्रमुख मंदिर एवं पीपल के वृक्ष पर दशा माता का पूजन कर अपने सौभाग्य, परिवार की खुशहाली, सुख संपत्ति व ऐश्वर्य की कामना की।

विभिन्न स्थानों पर पूजा संपन्न हुई : नगर में सुबह से ही महिलाएं अपने निवास के नजदीक मंदिर पर पीपल के वृक्ष पर पहुंचकर वहां कुम-कुम, अबिर, गुलाल, श्रीफल, पूजा की सुवानी, पाना (प्लेन पेपर) आदि सामग्री से विधि विधान पूर्वक पूजन कर दशा मां को विभिन्न प्रकार का नेवैघ लगाया। नगर के बहारपुरा स्थित झंडा चौक शिव मंदिर व उसके पीछे विशाल पीपल के वृक्ष पर, राजवाड़ा स्थित राज राजेश्वर मंदिर व असाड़पुरा स्थित सर्वेश्वर महादेव मंदिर, रणछोड राय मंदिर सहित अन्य स्थानों पर दशा माता की प्रमुख रूप से पूजा संपन्न हुई।

परिवार के खुशहाली की कामना की : महिलाओं ने पीपल के वृक्ष की विधि विधान से पूजा-अर्चना करते हुए, पीपल के वृक्ष पर सूत का धागा लपेटकर वृक्ष की परिक्रमा की। पश्चात सामूहिक पूजा में भाग लेकर दशा माता की पौराणिक कथा सुनी। इन मंदिरों पर सुबह से पूजन का क्रम प्रारंभ हुआ, जो देर दोपहर तक चलता नजर आया। अनेक घरों में दशा माता के पर्व पर विशेष रूप से अचंल का प्रसिद्ध व्यंजन दाल-बाटी बनाई गई। महिलाओं ने विशेष तरीके से सोलह शृंगार कर अपने सौभाग्य व परिवार के खुश हाली की कामना की।

अंचल में भी की दशा माता की पूजा : हिन्दू समाज के विभिन्न वर्गों द्वारा जिले भर में दशा माता का पूजन आस्थापूर्वक किया गया। जिले के उमराली, सौंडवा, कठ्ठीवाड़ा, बोरी, खट्टाली, नानपुर, सहित अनेक स्थानों पर महिलाओं ने दशा माता का पूजन कर पीपल के वृक्ष पर सूत का धागा लपेट कर वृक्ष की परिक्रमा की गई।

परिवार के खुश हाली की कामना की
स्थानीय पटवारी माता मंदिर पर ग्राम की सभी समाज की महिलाएं एकत्रित हुईं। इस अवसर पर पीपल के वृक्ष की विधिविधान से पूजा-अर्चना करते हुए, पीपल के वृक्ष पर सूत का धागा लपेटकर वृक्ष की परिक्रमा लगाई गई। इस दौरान सामूहिक पूजा भी की गई। इस अवसर पर दशा माता की पौराणिक कथा भी सुनी गई। पटवारी मंदिर पर सुबह से ही पूजन का क्रम प्रारंभ हुआ, जो देर दोपहर तक चलता रहा। ग्राम के कई घरों में दशा माता के पर्व पर महिलाओं ने विशेष तरीके से सोलह शृंगार कर अपने सौभाग्य व परिवार के खुश हाली की कामना की।

उदयगढ़ में भी दशा माता का पूजन
ग्राम उदयगढ़ कनाश में इंद्रा कालोनी रोड़ स्थित दशा मां मंदिर पर सुबह से ही महिलाओं की भीड़ उमडऩा शुरु हो गई। हिन्दू समाज की महिलाएं दशम के दिन सोलह श्रंगार कर दशा मां मंदिर पर आई और दशा मां की पूजा अर्चना कर अपने परिवार की सुख समृद्धि और वैभव की कामना की। इसके पश्चात मंदिर पर मौजूद पंडित द्वारा दशा मां की कथा सुनाई जिसे महिलाओ द्वारा श्रवण कर अपने परिवार की सुख समृद्धि और वैभव की कामना की।

अर्जुन रिछारिया Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned