बैंकों के बाहर चप्पलें रखकर बारी का इंतजार

बैंको के बाहर खड़े गार्ड ग्राहकों को एक-एक कर व दिए गए नंबरों के अनुसार अंदर बुला रहे

By: kashiram jatav

Published: 20 May 2020, 12:04 AM IST

आलीराजपुर. कोरोना संक्रमण के चलते वंचित एवं गरीब वर्ग के लिए केंद्र और राज्य सरकार की ओर से ा विभिन्न योजनाओं के तहत खातों में राशि डाली जा रही है। इसे निकालने के लिए बैंक में लोगों की भीड़ उमड़ रही है। धूप से बचने के लिए लोग बैंक के बाहर बनाए गोलों में अपने चप्पलें रखकर अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं।

सरकार ने वृद्धवस्था पेंशन, उज्जवला योजना के तहत राशि, किसानों के लिए सम्मान निधि की राशि के अतिरिक्त संक्रमण के चलते अन्य व्यवस्थाएं की है। इसको लेकर दूरदराज के ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले लोग अपनी सहायता राशि प्राप्त करने के लिए सुबह से बैंको ंके बाहर खड़े होकर बैंक खुलने का इंतजार करते हुए बैंकों के बाहर अपनी चप्पले उतारकर लाइन में रख रहे है ताकि उनका नंबर सुरक्षित रहे।

बैंक आफ बड़ोदा एवं कियोस्क सेंटर सहित नर्मदा झाबुआ ग्रामीण बैंक में मंगलवार को लगी लंबी कतारो में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के लिए बनाए गोले के अंदर ग्रामीणों के चप्पल-जूते रखे हुए थे जिसे हर कोई आता जाता व्यक्ति आश्चर्य से देख रहा था। हालाकि बैंको के बाहर खड़े गार्ड ग्राहकों को एक-एक कर व दिए गए नंबरों के अनुसार अंदर बुला रहे थे। लेकिन ग्रामीणों द्वारा स्वत: सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जाना तारीफ के काबिल दिखाई दिया।

ग्रामीण क्षेत्र से आ रहे लोग
इन दिनों किसानों द्वारा अपनी उपज बेचकर भी खरीदी का दौर हमेशा रहता है, लेकिन कोरोना संक्रमण के चलते कुछ दिनो तक पाबंदी के बाद अब ग्र्रामीण क्षेत्र के लोग भी बाजार में जमकर दिखाई दे रहे हैं।
ग्रामीण लोगों को जिसमें से अधिकतर किसान हंै आने वाले फसलों के लिए सामग्री लेने से लेकर अपने घर को व्यवस्थित करने के लिए सामग्री खरीदने के साथ अन्य उपयोगी सामग्री जैसे प्लास्टिक की चादरे, बरसाती,मकान पर लगने वाले पतरे, तिरपाल व अन्य सामग्री उनके द्वारा खरीदी जा रही है। ताकि बारिश के दौरान उन्हें किसी प्रकार की परेशानी का सामना ना करना पड़े। ग्रामीण क्षेत्र से आ रहे लोगों के चलते नगर में जहां चारों ओर भीड़ दिखाई देती है। वहीं व्यापारी वर्ग के चेहरे खिले हुए दिखाई देते हैं। नगर में चारों और जमकर व्यापार चल रहा है। जो आने वाली बरसात तक जारी रहेगा।

खेती की सामग्री की खरीदी जोरों पर
वर्तमान में गुजरात से आए हुए मजदूर भी अपने घरों में रहकर आराम फरमा रहे हैं। ऐसे में घरों पर आए हुए ये लोग घर वालो का हाथ बटाकर खेतो को खेडऩे का काम कर रहे हैं। जो लगभग सभी खेतों में लगभग पूर्ण हो भी चुका है। अब किसान अच्छी बारिश का इंतजार कर रहे हैं। ताकि आने वाली फसल अच्छी हो। इसके लिए किसानों द्वारा अभी से खाद एवं बीज की खरीदी जमकर की जा रही है। वहीं क्षेत्र में महुआ की अच्छी फसल आने से किसानों का आर्थिक रूप से लाभ हुआ है। इस बार महुआ 28 रुपए से लेकर 35 रुपए तक किलो के दाम से किसानों द्वारा बेचाा है। वनोपज के चलते किसानों को आ रही आर्थिक दिक्कतों में से कुछ तो राहत महुआ के फसल द्वारा मिली है।
सतर्कता जरूरी
कोरोना संक्रमण से चल रही लड़ाई अब निर्णायक दौर में पहुंच चुकी है क्षेत्र के लोगों द्वारा शासन प्रशासन के साथ कंधे से कंधा मिलाकर संक्रमण से लड़ा है। लॉक डाउन 1 से लेकर लॉक डाउन 3 तक आम लोगों के द्वारा बड़ी गंभीरता के साथ इस लड़ाई में सहयोग दिया। यह जिले का सोभाग्य है कि उदयगढ़ में कोरोना पाजीटीव पाए गए व्यक्ति के बाद जिले में और किसी प्रकार का प्रकरण सामने नहीं आया। इसके चलते आमजन जहां राहत के साथ अपने व्यापार व्यवसाय में लगे हं।ै वहीं अब इन सभी लोगों को ज्यादा सतर्क भी रहना होगा। क्योंकि जिले के रहवासी जो बाहर गुजरात क्षेत्र में काम करते थे वे भी अब जिले में लौट आए हैं। इसलिए आने वाले 14 दिन निर्णायक साबित होंगे। यदि जिलेवासियों द्वारा संयम से बिता दिए गए तो समझो जिलेवासियों के द्वारा कोरोनो से जंग जीत ली गई।
लॉक डाउन 4 में मिली लोगों को राहत
कोरोना संक्रमण के चलते लंबी लड़ाई के बीच जहां शुरूआती तौर पर प्रशासन द्वारा सख्ती दिखाई गई थी वहीं लॉक डाउन का समय धीरे धीरे आगे बढ़ता गया और लॉक डाउन 4 आ पहुंचा। जहां एक और लॉक डाउन 3 में जिला प्रशासन द्वारा कुछ चिन्हित व्यापारियों को उनके व्यवसाई की छूट सुबह 7 से दोपहर 12 बजे तक दी थी। वहीं लॉक डाउन 4 में जिला प्रशासन द्वारा अन्य व्यापारियों को भी छूट देते हुए समय अवधि भी बढ़ाते हुए सुबह 7 बजे से दोपहर 2 बजे तक कर दी है। इसके चलते आम व्यापारी से लेकर छोटे-छोटे व्यवसायियों ने राहत महसूस की है।

kashiram jatav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned