भागवत कथा के शुभारंभ पर निकाली भव्य शोभायात्रा

भागवत कथा के शुभारंभ अवसर पर निकली भव्य शोभायात्रा।

आलीराजपुर। नगर के राजवाड़ा प्रांगण में गुरुवार से श्रीमद् भागवत कथा का शुभारंभ विशाल चल समारोह के साथ किया गया। चल समारोह पंचमुखी हनुमान मंदिर से एमजी रोड होता हुआ कथास्थल ब्रजधाम पहुंचा। चल समारोह में उज्जैनी रामानुजकोट के स्वामी माधव प्रपन्नाचार्य हाथी पर सवार होकर जनता को आशीर्वाद देते चल रहे थे। वहीं बग्घी पर अयोध्या से आए भक्ताचार्य विराजमान थे। उनके साथ उज्जैन के उपेंद्राचार्य व अन्य संत चल समारोह की शोभा बढ़ा रहे थे।

चल समारोह पंचमुखी हनुमान मंदिर से दोपहर 12 बजे प्रारंभ हुआ। चल समारोह में पुरुष सफेद परिधान और साफे पहने हुए चल रहे थे, वहीं महिलाएं लाल व केसरिया साड़ी पहनी शामिल हुर्इं। चल समारोह का प्रमुख मार्गों पर स्वागत भी किया गया। चल समारोह में महिलाएं व युवतियां रास्ते में गरबा नृत्य करती हुई चल रही थीं।

इस दौरान जमकर आतिशबाजी के साथ गुलाब की पंखुडिय़ों से पूरे रास्ते को पाट दिया गया। चल समारोह में परवाल परिवार के सदस्य भागवत सिर पर रखकर चल रहे थे। कथा स्थल पर विधि-विधान से कथा का शुभारंभ किया गया।  चल समारोह के आरंभ में कलश उठाए युवतियां चल रही थीं। चल समारोह में विधायक नागरसिंह चौहान, जिला कांग्रेस  अध्यक्ष महेश पटेल आदि मौजूद थे।

माता पिता की सेवा सबसे बड़ी सेवा है

कथा शुभारंभ के पहले दिन स्वामी ने कहा कि माता-पिता की सेवा दुनिया में सबसे बड़ी सेवा है। बच्चे बड़े होकर दुनिया की मोहमाया में अपने बुजुर्ग माता-पिता को अकेला छोड़ देते हंै। स्वामी ने भागवत कथा का महत्व समझाते हुए कहा कि परमात्मा सभी दुखों को दूर करता है। उन्होंने कहा कि भागवत कथा का श्रवण करने से व्यक्तिके सारे पाप दूर होते हैं व कथा करवाने वालों को दुनिया का हर कष्ट सहने की ताकत प्राप्त होती है। चिंता व्यक्ति को नष्ट करती है।

गरीबों की सेवा करने से कष्ट दूर होते हैं

स्वामी जी ने कहा कि गरीब लोगों की सेवा करने से व्यक्तिके सारे कष्ट दूर होते हैं व आनंद मिलता है। उन्होंने कहा कि जिस घी, चावल एवं गेहूं से हम अपना भोजन तैयार कर ग्रहण करते हैं, उसी गुणवत्ता वाली सामग्री से भगवान को भोग लगाना चाहिए।
Narendra Hazare
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned