एकेडमिक काउंसिल ने इलाहाबाद विवि में छात्रसंघ समाप्त करने का फैसला किया, भारी विरोध

एकेडमिक काउंसिल ने इलाहाबाद विवि में छात्रसंघ समाप्त करने का फैसला किया, भारी विरोध
allahabad university

Prasoon Kumar Pandey | Updated: 25 Jun 2019, 08:00:46 PM (IST) Allahabad, Allahabad, Uttar Pradesh, India


छात्र नेताओं का आरोप ,कुलपति अपनी कारगुजारी और भ्रष्टाचार छिपाने को कर रहे साजिश

प्रयागराज| इलाहाबाद विश्वविद्यालय में छात्रसंघ चुनाव बैन किये जाने के एकेडमिक काउंसिल के फैसले के बाद मंगलवार को दिन भर छात्रों का भारी विरोध रहा। पदाधिकारियों सहित सैकड़ों की संख्या में छात्र नेता सीनेट हॉल परिसर में मौजूद रहे छात्र नेताओं ने मांग की है कि विश्वविद्यालय के छात्र संघ को अनवरत चलने दिया जाए। उन्होने कहा कि एकेडमिक काउंसिल का मकसद लोकतंत्र की नर्सरी को खत्म करना छात्रों नौजवानों और युवाओं के लोकतांत्रिक अधिकार का हनन करना है । छात्रों ने ये भी कहा कि कुलपति अपनी कारगुजारी और भ्रष्टाचार छिपाने के लिए इस तरह की साजिश रच रहे हैं। बतादें कि विवि प्रशासन कैंपस में छात्र परिषद लागू करने का मन बनाया है।

दरअसल सोमवार को विश्वविद्यालय एकेडमिक काउंसिल की महत्वपूर्ण बैठक हुई जिसमें कुलपति समेत अन्य प्रोफ़ेसर मौजूद रहे। विश्वविद्यालय में चल रही तमाम गतिविधियों की समीक्षा के साथ छात्रसंघ चुनाव को समाप्त करने का भी प्रस्ताव भी रखा गया जिसको सर्वसम्मति से पास भी कर दिया गया। इस बैठक में फैसला किया गया कि विवि प्रशासन कैंपस में छात्र परिषद लागू किया जाएगा जो छात्रों की हितों का खयाल रखेगा। ताकि छात्र राजनीति के नाम पर बढ रहे तमाम आपराधिक गतिविधियों पर रोक लगाया जा सके। हालांकि अब इस पर फैसला विवि परिषद को करना है।

यह भी पढ़ें

371 तारीख 359 सवाल 157 पेज की बहस के बाद आया फैसला, जानिये अयोध्या आतंकी हमले केस में कब क्या हुआ

इस मसले पर पत्रिका से बातचीत में विश्वविद्यालय के प्रोफेसर रामसेवक दूबे ने बताया कि विश्वविद्यालय प्रशासन का मानना है कि छात्र संघ चुनाव ना होकर छात्र परिषद का गठन होगा जिससे कैंपस में अराजकता पर रोक लगाई जा सकेगी। उन्होंने कहा कि लिंगदोह की सिफारिशों में कहा गया है कि जिस कैंपस में पांच हजार से अधिक छात्र पंजीकृत है वहां सीधे तौर पर चुनाव ना कराकर छात्र परिषद का गठन किया जा सकता है। हमने उसी को ध्यान में रखकर इस पर विचार किया है।

यह भी पढ़ें

योगी सरकार की नई गाइड लाइन शस्त्र लाइसेंस लेने के लिए अब चुकानी होगी मोटी रकम

वहीं इसे लेकर छात्रों ने भी आवाज बुलंद कर दिया है। छात्र संघ के अध्यक्ष उदय यादव ने कहा कि विश्वविद्यालय प्रशासन का तानाशाही पूर्ण निर्णय है इसका विरोध होगा। इसकी लड़ाई विश्वविद्यालय कैंपस से लेकर सड़कों तक लड़ी जाएगी। विश्वविद्यालय अपना प्रस्ताव लाए और पास करे लेकिन हम उसे नहीं मानेंगे। छात्र संघ छात्रों का है विद्यालय प्रशासन की जागीर नहीं है। यादव की अगुवाई में जुटे सैकड़ों छात्रों ने कहा कि यह हमारा लोकतांत्रिक अधिकार है। इस ऐतिहासिक छात्रसंघ भवन में हम ताला नहीं लगने देंगे।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned