scriptAllahabad High Court gives big relief to Flipkart company | इलाहाबाद हाईकोर्ट ने फ्लिपकार्ट कंपनी को दी बड़ी राहत, धोखाधड़ी मामले में लगाई रोक | Patrika News

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने फ्लिपकार्ट कंपनी को दी बड़ी राहत, धोखाधड़ी मामले में लगाई रोक

कोर्ट ने कंपनी के खिलाफ थाना लोहा मंडी आगरा में धोखाधड़ी व कापीराइट कानून उल्लंघन के आरोप में दर्ज एफआईआर के तहत उत्पीड़नात्मक कार्रवाई पर रोक लगा दी है। कोर्ट ने शिकायत कर्ता ओसवाल पब्लिकेशन को नोटिस जारी की है और राज्य सरकार सहित सभी विपक्षियों से छः हफ्ते में जवाब मांगा है।

इलाहाबाद

Updated: March 11, 2022 07:58:46 pm

प्रयागराज: इलाहाबाद हाईकोर्ट ने मेसर्स फ्लिपकार्ट इंटरनेट प्रालि कंपनी को बड़ी राहत दी है। कोर्ट ने कंपनी के खिलाफ थाना लोहा मंडी आगरा में धोखाधड़ी व कापीराइट कानून उल्लंघन के आरोप में दर्ज एफआईआर के तहत उत्पीड़नात्मक कार्रवाई पर रोक लगा दी है। कोर्ट ने शिकायत कर्ता ओसवाल पब्लिकेशन को नोटिस जारी की है और राज्य सरकार सहित सभी विपक्षियों से छः हफ्ते में जवाब मांगा है।
इलाहाबाद हाईकोर्ट ने फ्लिपकार्ट कंपनी को दी बड़ी राहत, धोखाधड़ी मामले में लगाई रोक
इलाहाबाद हाईकोर्ट ने फ्लिपकार्ट कंपनी को दी बड़ी राहत, धोखाधड़ी मामले में लगाई रोक
यह भी पढ़ें

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने दिया निर्देश, माही पाल के खिलाफ धोखाधड़ी कपट केस बरेली से गाजियाबाद अदालत में हो स्थानांतरित

यह आदेश न्यायमूर्ति अश्वनी कुमार मिश्र तथा न्यायमूर्ति रजनीश कुमार की खंडपीठ ने फ्लिपकार्ट कंपनी की याचिका पर दिया है। याचिका पर वरिष्ठअधिवक्ता शिशिर टंडन वअक्षय मोहिले ने बहस की। इनका कहना है कि फ्लिपकार्ट कंपनी खरीद फरोख्त का प्लेटफार्म उपलब्ध कराती है। कापीराइट कानून के उल्लंघन का आरोप उसपर लगाने के बजाय प्रकाशक पर लगाना चाहिए। याची केवल मध्यस्थ है। इसमेंउसकी कोई भूमिका नहीं है।उसे धारा 79सूचना तकनीकी कानून का संरक्षण प्राप्त है।उसके खिलाफ एफ आई आर दर्ज कराना कानूनी प्रक्रिया का दुरूपयोग करना है। कोर्ट ने मुद्दे को विचारणीय माना और विपक्षियों से जवाब मांगा है।
यह भी पढ़ें

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सायहक अध्ययन भर्ती मामले में दो विषयों का मूल्यांकन करने के आदेश को जाने क्यों किया रद्द

कोर्ट ने कंपनी के खिलाफ थाना लोहा मंडी आगरा में धोखाधड़ी व कापीराइट कानून उल्लंघन के आरोप में दर्ज एफआईआर के तहत उत्पीड़नात्मक कार्रवाई पर रोक लगा दी है। कोर्ट ने शिकायत कर्ता ओसवाल पब्लिकेशन को नोटिस जारी की है और राज्य सरकार सहित सभी विपक्षियों से छः हफ्ते में जवाब मांगा है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

यहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतियूपी में घर बनवाना हुआ आसान, सस्ती हुई सीमेंट, स्टील के दाम भी धड़ामName Astrology: पिता के लिए भाग्यशाली होती हैं इन नाम की लड़कियां, कहलाती हैं 'पापा की परी'इन 4 राशियों के लड़के अपनी लाइफ पार्टनर को रखते हैं बेहद खुश, Best Husband होते हैं साबितजून में इन 4 राशि वालों के करियर को मिलेगी नई दिशा, प्रमोशन और तरक्की के जबरदस्त आसारमस्तमौला होते हैं इन 4 बर्थ डेट वाले लोग, खुलकर जीते हैं अपनी जिंदगी, धन की नहीं होती कमी1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्ससंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजर

बड़ी खबरें

आंध्र प्रदेश में जिले का नाम बदलने पर हिंसा, मंत्री का घर जलाया, कई घायलपंजाब के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री के OSD प्रदीप कुमार भी हुए गिरफ्तार, 27 मई तक पुलिस रिमांड में विजय सिंगलारिलीज से पहले 1 जून को गृहमंत्री अमित शाह देखेंगे अक्षय कुमार की 'पृथ्वीराज', जानिए किस वजह से रखी जा रहीं स्पेशल स्क्रीनिंगGujrat कांग्रेस के वरिष्ठ नेता का विवादित बयान, बोले- मंदिर की ईंटों पर कुत्ते करते हैं पेशाबIPL 2022, Qualifier 1 RR vs GT: मिलर के तूफान में उड़ा राजस्थान, गुजरात ने पहले ही सीजन में फाइनल में बनाई जगहRajya Sabha Election 2022: राजस्थान से मुस्लिम-आदिवासी नेता को उतार सकती है कांग्रेस'तुम्हारे कदम से मेरी आँखों में आँसू आ गए', सिंगला के खिलाफ भगवंत मान के एक्शन पर बोले केजरीवालसमलैंगिकता पर बोले CM नीतीश कुमार- 'लड़का-लड़का शादी कर लेंगे तो कोई पैदा कैसे होगा'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.