Breaking गोरखपुर सांप्रदायिक मामले में सीएम योगी आदित्यनाथ के खिलाफ याचिका पर सुनवाई, कोर्ट ने...

गोरखपुर 2007 के सांप्रदायिक मामले में एक बार फिर सुनवाई टल गई है...

By: ज्योति मिनी

Updated: 11 Sep 2017, 04:53 PM IST

इलाहाबाद. गोरखपुर 2007 के सांप्रदायिक मामले में  एक बार फिर सुनवाई टल गई है। इलाहाबाद हाइकोर्ट में इस मामले की सुनवाई अब 15 सितंबर को होगी। याचिका कर्ता ने सीएम योगी आदित्यनाथ के खिलाफ सीबीआई जांच की मांग को लेकर याचिका दायर की है। जिसमें इन्होंने योगा आदित्यनाथ के खिलाफ सीबाआई जांच की मांग की है। हालांकि, इस मामले को लेकर कोर्ट ने परवेज और असद से सोमवार को मामले से जुड़े से दस्तावेज मांगे थे। लेकिन याचिका कर्ताओं द्वारा रिकॉर्ड ना दिये जाने से मामले की सुनवाई टल गई है। 

 

 

 

2007 के दंगों की यह है कहानी

बात करीब एक दशक पहले की है। 2007 में 26/27 जनवरी की रात में मोहर्रम जुलूस निकल रहा था। जुलूस में अचानक से दो पक्षों में विवाद शुरू हो गया। कुछ ही पल में यह विवाद खूनी खेल में तब्दील हो गया। पुलिस के हस्तक्षेप के बावजूद मामला बेकाबू हो चला। कोतवाली थानाक्षेत्र के झंकार सिनेमा के पास पुलिस की गाड़ी से राजकुमार अग्रहरि नामक युवक को खींचकर गुस्साई भीड़ ने चाकू मारकर हत्या कर दी। इस हत्याकांड के बाद मामले ने अचानक सांप्रदायिक रंग ले ली। धरना-प्रदर्शन होने लगा। महाराणा प्रताप चौराहा पर बीजेपी के बड़े नेताओं की अगुवाई में सभा हुई। बताया जाता है कि इस सभा में वक्ताओं ने भड़काऊ भाषण दिए। भड़काऊ भाषण देने वालों में तत्कालीन सांसद योगी आदित्यनाथ भी थे। आरोप लगा कि उनके भाषण के बाद ही दंगे भड़क गए। इस दंगे में राशिद नाम के एक युवक की भी जान गई। 


राशिद की मौत के बाद वादी बने परवेज परवाज ने केस दर्ज कराया। वादी के अनुसार वह भाषण के दौरान वहां से गुजर रहे थे। वादी परवेज परवाज ने कैण्ट इंस्पेक्टर को तहरीर देकर विवादित बयान देने और उसके बाद भड़के दंगे में हुई राशिद की हत्या के मामले में मुकदमा दर्ज करने की अपील की। थाने में मुकदमा दर्ज नहीं हुआ तो वादी परवेज परवाज ने न्यायालय की शरण ली। इसके बाद योगी आदित्यनाथ के खिलाफ भड़काऊ भाषण देने एवं उन्माद फैलाने की धाराओं सहित 302, 153ए, 153बी, 295, 295बी, 147, 143, 427, 452 के तहत कैण्ट थाना में मुकदमा दर्ज किया गया। 

Input- प्रसून पांडेय, धीरेंद्र गोपाल 

ज्योति मिनी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned