scriptAllahabad High Court: Order refusing to transfer to RPF canceled | इलाहाबाद हाईकोर्ट: रेलवे सुरक्षा विशेष बल से आरपीएफ में तबादले से इंकार करने का आदेश रद्द | Patrika News

इलाहाबाद हाईकोर्ट: रेलवे सुरक्षा विशेष बल से आरपीएफ में तबादले से इंकार करने का आदेश रद्द

याचीगण आरपीएफ स्पेशल फोर्स की विभिन्न बटालियन में तैनात हैं। नियुक्ति के समय लागू नियम के अनुसार विशेष बल में पांच वर्ष सेवा पूरी करने के बाद वे पसंदीदा जोन में स्थानांतरण की मांग कर सकते हैं। याचियों की नियुक्ति 2015 में हुई। उसके बाद से वे विशेष बल में ही रहे। पांच वर्ष की सेवा पूरी होने के बाद मुख्य सुरक्षा आयुक्त उत्तर पूर्व रेलवे गोरखपुर के 28 दिसंबर 2017 को जारी संशोधित कार्यालय आदेश 32 से उन्हें स्थानांतरण करने से मना कर दिया गया।

इलाहाबाद

Updated: April 26, 2022 07:30:29 am

प्रयागराज: इलाहाबाद हाईकोर्ट ने रेलवे सुरक्षा विशेष बल में तैनात जवानों को उनकी पसंद के रेलवे पुलिस बल के जोन में स्थानांतरित कर तैनाती का निर्देश दिया है। न्यायालय ने आरपीएफ विशेष बल से आरपीएफ में स्थानांतरण रोकने के 28 दिसंबर 2017 को जारी पुनरीक्षित निर्देश को रद्द कर दिया है। यह आदेश न्यायमूर्ति मंजू रानी चौहान ने उमाकांत व 234 अन्य आरपीएफ जवानों की याचिका पर वरिष्ठ अधिवक्ता विजय गौतम व एडवोकेट प्रशांत मिश्र को सुनकर दिया है।
इलाहाबाद हाईकोर्ट: रेलवे सुरक्षा विशेष बल से आरपीएफ में तबादले से इंकार करने का आदेश रद्द
इलाहाबाद हाईकोर्ट: रेलवे सुरक्षा विशेष बल से आरपीएफ में तबादले से इंकार करने का आदेश रद्द
यह भी पढ़ें

इलाहाबाद हाईकोर्ट : वादियों पर समझौता का झूठा दावा करने पर 1 लाख रुपए का जुर्माना

याचीगण आरपीएफ स्पेशल फोर्स की विभिन्न बटालियन में तैनात हैं। नियुक्ति के समय लागू नियम के अनुसार विशेष बल में पांच वर्ष सेवा पूरी करने के बाद वे पसंदीदा जोन में स्थानांतरण की मांग कर सकते हैं। याचियों की नियुक्ति 2015 में हुई। उसके बाद से वे विशेष बल में ही रहे। पांच वर्ष की सेवा पूरी होने के बाद मुख्य सुरक्षा आयुक्त उत्तर पूर्व रेलवे गोरखपुर के 28 दिसंबर 2017 को जारी संशोधित कार्यालय आदेश 32 से उन्हें स्थानांतरण करने से मना कर दिया गया।
यह भी पढ़ें

शादी के पहले महिला ने होने वाले पति पर लगाया बलात्कार का झूठा आरोप, इलाहाबाद हाईकोर्ट ने लगाया 10 हजार का जुर्माना

इस पुनरीक्षित आदेश को चुनौती देते हुए कहा गया कि इससे पूर्व हाईकोर्ट ने हरिश्चंद्र व 62 अन्य के मामले में स्पेशल फोर्स से आरपीएफ में स्थानांतरण करने का आदेश दिया है। यह प्रकरण भी उसी आदेश की परिधि में आता है। सुनवाई के बाद कोर्ट ने 28 दिसंबर 2017 का पुनरीक्षित आदेश रद्द करते हुए याचियों को वरिष्ठता व पसंद के आधार पर मनचाहे जोन में तैनाती देने को कहा है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Maharashtra Politics: संजय राउत का बड़ा दावा, कहा-मुझे भी गुवाहाटी जाने का प्रस्ताव मिला था; बताया क्यों नहीं गएक्या कैप्टन अमरिंदर सिंह बीजेपी में होने वाले हैं शामिल?कानपुर में भी उदयपुर घटना जैसी धमकी, केंद्रीय मंत्री और साक्षी महाराज समेत इन साध्वी नेताओं पर निशानाआतंकी सोच ऐसी कि बाइक का नम्बर भी 2611, मुम्बई हमले की तारीख से जुड़ा है नंबर, इसी बाइक से भागे थे दरिंदेपाकिस्तान में चुनावी पोस्टर में दिख रहीं सिद्धू मूसेवाला की तस्वीरें, जानिए क्या है पूरा मामला500 रुपए के नोट पर RBI ने बैंकों को दिए ये अहम निर्देश, जानिए क्या होता है फिट और अनफिट नोटनूपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट लिखने पर अमरावती में दुकान मालिक की हुई हत्या!Maharashtra Politics: उद्धव और शिंदे के बीच सुलह कराना चाहते हैं शिवसेना के सांसद, बीजेपी का बड़ा दावा-12 एमपी पाला बदलने के लिए तैयार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.