scriptAllahabad Highcourt order inquiry on Lucknow District Court Violence | लखनऊ जिला न्यायालय हिंसा की घटना पर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने दिए जांच के आदेश | Patrika News

लखनऊ जिला न्यायालय हिंसा की घटना पर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने दिए जांच के आदेश

Allahabad Highcourt order inquiry on Lucknow District Court Violence- इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad Highcourt) ने 30 अक्टूबर की एक घटना जिसमें लखनऊ जिला न्यायालय परिसर के बाहर वकीलों ने हिंसक व्यवहार किया, उसके जांच के आदेश दिए हैं। कोर्ट ने कहा है कि मूकदर्शक के रूप में वकीलों के गैर-पेशेवर और अनियंत्रित व्यवहार को नहीं देख सकती है।

इलाहाबाद

Published: November 19, 2021 05:35:59 pm

प्रयागराज. Allahabad Highcourt order inquiry on Lucknow District Court Violence. इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad Highcourt) ने 30 अक्टूबर की एक घटना जिसमें लखनऊ जिला न्यायालय परिसर के बाहर वकीलों ने हिंसक व्यवहार किया, उसके जांच के आदेश दिए हैं। कोर्ट ने कहा है कि मूकदर्शक के रूप में वकीलों के गैर-पेशेवर और अनियंत्रित व्यवहार को नहीं देख सकती है। न्यायमूर्ति शमीम अहमद और न्यायमूर्ति राकेश श्रीवास्तव की खंडपीठ ने यह भी कहा कि न्यायालय यह सुनिश्चित करने के लिए बाध्य है कि नागरिकों को न्याय प्राप्त करने में किसी भी कठिनाई का सामना न करना पड़े।
Allahabad Highcourt order inquiry on Lucknow District Court Violence
Allahabad Highcourt order inquiry on Lucknow District Court Violence
यह है मामला

कोर्ट के समक्ष जिला न्यायालय लखनऊ में प्रैक्टिस करने वाले अधिवक्ताओं द्वारा दायर एक याचिका पर विचार कर रहा था, जिसमें एक जिम्मेदार प्रशासनिक या न्यायिक अधिकारी की नियुक्ति की मांग की गई थी। पुराने उच्च न्यायालय भवन के गेट 6 के निकट लखनऊ जिला न्यायालय परिसर के पास 30 अक्टूबर को हुई हिंसक घटना की जांच की मांग की गई थी। मामले के कथित तथ्यों के अनुसार 30 अक्टूबर को अयोध्या प्रचार में आरोपी व्यक्तियों को जमानत बांड भरने का आदेश दिया गया था। हालांकि, किसी सतीश कुमार वर्मा ने खुद को एक वकील होने का दावा करते हुए याचिकाकर्ताओं को आरोपी व्यक्तियों के जमानत बांड को फाइल न करने के लिए कहा। इस बात को नजरअंदाज कर लगभग 3 बजे शैलेंद्र कुमार मिश्रा ने जमानत बांड के साथ-साथ जमानत की जांच की और लगभग 4 बजे आरोपी व्यक्तियों को जमानत पर रिहा कर दिया गया। इसके बाद आरोप है कि उसी दिन शाम करीब 4.40 बजे, 30 से 40 अधिवक्ताओं ने गेट नंबर 6, ओल्ड हाईकोर्ट बिल्डिंग के पास याचिकाकर्ताओं को घेर लिया और अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया और याचिकाकर्ताओं के साथ बुरी तरह मारपीट की। वजीरगंज थाने में प्राथमिकी भी दर्ज करायी गयी।
23 नवंबर को मांगी रिपोर्ट

अधिवक्ताओं के हिंसक व्यवहार पर कोर्ट ने पुलिस उपायुक्त को जांच करने और घटना में शामिल लोगों की पहचान करने के लिए दिए गए बयानों की मदद लेने का निर्देश दिया। रिट याचिका के साथ-साथ फोटो और सीडी रिट याचिका के साथ संलग्न हैं। जिला न्यायाधीश, लखनऊ, लखनऊ बार एसोसिएशन के अध्यक्ष और सेंट्रल बार एसोसिएशन को दोषियों की पहचान करने में पुलिस उपायुक्त को हर संभव मदद देने का निर्देश दिया गया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहचुनावी तैयारी में भाजपा: पीएम मोदी 25 को पेज समिति सदस्यों में भरेंगे जोशखाताधारकों के अधूरे पतों ने डाक विभाग को उलझायाकोरोना महामारी का कहर गुजरात में अब एक्टिव मरीज एक लाख के पार, कुल केस 1000000 से अधिक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.