अतीक अहमदः पद गया, प्रतिष्ठा गयी, गया बैंक का पैसा

  • भागे-भागे फिर रहे परिजन, अतीक ने काम किया है ऐसा

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

प्रयागराज. एमपी एमएलए कोर्ट ने भले ही जेल में बंद बाहुबली अतीक अहमद को यूपी आने के बजाय गुजरात से ही वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये पेशी की छूट दे दी हो, लेकिन यूपी की योगी सरकार का शिकंजा लगातार कसता चला जा रहा है। सम्पत्तियों पर हथौड़ा चलाकर नेस्त नाबूद करने के बाद अब जमा रकम पर भी कार्रवाई शुरू हो गई है। योगी सरकार ने अतीक अहमद के अब तक 13 खाते सीज कर दिये हैं। इनमें से दिल्ली संसद भवन और लखनऊ सचिवालय के खातों को पहले ही कुर्क किया जा चुका है। ताजा कार्रवाई में अतीक के 11 अन्य खातों को सीज किया गया है। अब तक सरकार अतीक की करीब 300 करोड़ से अधिक की सम्पत्ति पर बुलडोजर चला चुकी है। उत्तर प्रदेश में पहली बार किसी माफिया के खिलाफ इतनी बड़ी कार्रवाईयां की गई हैं।

 

सरकार की कार्रवाइयों का खौफ भी इस कदर है कि, जो अतीक अहमद फूलपुर उपचुनाव के समय और उसके बाद भी इलाहाबाद जेल में आने के लिये एंड़ी चोटी का जोर लगा रहे थे अब उन्हें गुजरात से यूपी आने में खौफ लग रहा है। उन्हें डर है कि कहीं रास्ते में उनकी हत्या न हो जाए। ऐसा पेशी पर बुलाए जाने के बाद अतीक की ओर से खुद एमपी एमएलए कोर्ट से कहा गया है। जिस पूर्व विधायक अशरफ (अतीक का छाेटा भाई) सुराग तक नहीं लग पा रहा था, उसे योगी की पुलिस ने न सिर्फ ढूंढ निकाला बल्कि सलाखों के पीछे भेज दिया। बेटा उमर भी 2 लाख का ईनामी बन चुका है और फरार है।

 

अतीक के खिलाफ पिछले छह महीनों में जिस तरह से सरकार ने कार्रवाई की है उससे न सिर्फ उनके विरोधियों ने आगे आकर उनके खिलाफ मुकदमे लिखवाए हैं बल्कि जो अपने थे वो भी धीरे-धीरे साथ छोड़ रहे हैं। सरकार चाहे जिसकी भी हो सत्ता के गलियारों और अफसरशाही पर अतीक की मजबूत पकड़ अब बीते जमाने की बात हो गई। ताबड़तोड़ कार्रवाइयों और फाइल पर फाइल खुलने के बाद सियासत से लेकर अपराध जगत में अतीक का अब न वो रुत्बा रहा न रसूख। अपराध के बल पर कमाई गई अकूत सम्पत्ति का भी ज्यादातर हिस्सा हाथ से जा चुका है। यहां तक कि अतीक के परिवार के रहने तक का ठिकाना छिन चुका है। उनका महलनुमा आलीशान पैतृक आवास भी जमींदोज किया जा चुका है।

 

इमारतें, शाॅपिंग काॅम्प्लेक्स, कोल्ड स्टोरेज को मिट्टी में मिलाने और कब्जे से करोड़ों की जमीन छुड़ाने के बाद योगी सरकार ने अब अतीक के बैंक खातों को टारगेट पर ले लिया है। अब तक पता चले 13 बैंक खातों में से दो को पहले ही कुर्क किया जा चुका था, दो दिन पहले 11 और बैंक खातों को सीज कर दिया गया। इनमें 7 प्रयागराज में और 2-2 बलरामपुर व दिल्ली के खाते हैं। इनमें काफी रकम जमा हैं।

 

अतीक पर चल रही कार्रवाईयों के क्रम में प्रयागराज के कैंट थाना की रिपोर्ट के आधार पर गैंगस्टर एक्ट के तहत प्रयागराज के डीएम के आदेश पर अतीक के बैंक खातों को कुर्क करने के लिये पुलिस ने संबंधित बैंकों को पत्र भेजा था। इसमें खातों में पड़ी रकम को सीज करने की बात कही गई थी। यही नहीं डीएम ने 30 अक्टूकर तक खातों को कुर्क करके इसकी अनुपालन रिपोर्ट भी मांगी थी। अतीक के अलावा प्रयागराज की पुलिस हिस्ट्रीशीटर और भू माफिया ब्लाॅक प्रमुख दिलीप मिश्रा के बैंक खातों को भी सीज करने की तैयारी में जुटी हुई है।

Show More
रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned