शहर के ज्यादातर एटीएम खाली, रमजान की तैयारियां फीकी

शहर के ज्यादातर एटीएम खाली, रमजान की तैयारियां फीकी
Cash Shortage

त्योहार के सीजन में ठंडा पड़ा मार्केट

इलाहाबाद. संगम नगरी इलाहाबाद के ज्यादातर एटीएम खाली पड़े हैं। लोग एटीएम तो जा रहे हैं लेकिन हाथ केवल निराशा ही लग रही है। रमजान के महीने में भी मार्केट ठंडा पड़ा है। व्यापारी अब तक का सबसे खराब त्योहारी सीजन मान रहे हैं।

मुस्लिम समुदाय का सबसे पवित्र महीना रमजान का चल रहा है। कुछ ही दिनों में ईद भी है। वहीं शहर के ज्यादातर एटीएम खाली पड़े हैं। उसमें से पैसे नहीं निकल रहे हैं। जिन एटीएम में पैसे भी जैसे डाला जा रहा है। वैसे ही लोगों की लंबी कतार लग रही है और चंद घंटों में फिर से एटीएम खाली हो जा रहा है। इसका सबसे बुरा असर मुस्लिम समुदाय के त्योहार पर देखने को मिला रहा है। जिन लोगों ने इस रमजान व ईद में जमकर खरीदारी करने, अच्छे पकवान सहित अन्य चीजों की प्लानिंग की थी। उनकी प्लॉनिंग पैसे के अभाव में फेल होती नजर आ रही है। पैसों की किल्लत का असर ना केवल आम लोगों पर पड़ रहा है बल्कि दुकानदारों पर भी पड़ रहा है। रमजान के महीने में ग्राहकों से खचाखच भरा रहने वाला चैक बाजार खाली-खाली नजर आ रहा है। इसकी सबसे बड़ी वजह एटीएम में पैसे ना होना माना जा रहा है।

यह भी पढ़ें:
सेना की मदद के नाम पर महंथ हर घर से ले रहे चंदा, प्रशासन ने कहा हमने नहीं दी अनुमति


दुकानदार फहीम जाफरी और शीबू अहमद का कहना है कि इस बार मार्केट की स्थिति सबसे ज्यादा खराब है। पिछले साल रमजान के महीने में दुकान पर भीड़ ही भीड़ रहती थी, जमकर कमाई होती थी। वहीं इस बार नोट बंदी के कारण लोगों के पास पैसे की कमी हो गई है। वहीं जिन लोगों के पास पैसे भी हैं वो एटीएम से निकल नहीं पा रहे। क्योंकि एटीएम जाओ तो पैसे ही नहीं हैं। उन्होंने कहा कि एटीएम से पैसे नहीं निकलने के कारण लोगों का माइड सेटअप भी डाउन हो गया है। मतलब लोग कम पैसे के अनुरूप ही खरीदारी कर रहे हैं। महंगी चीजें खरीदने से कतरा रहे हैं। इससे बाजार भी डाउन स्थिति में चलाना पड़ रहा है।

कांग्रेसी नेता ने बोला बीजेपी पर हमला
कांग्रेस सांसद प्रमोद तिवारी ने बीजेपी ने हमला बोलते हुए कहा कि एटीएम में पैसे ना होना नोट बंदी का असर है। जिसके कारण लोग परेशान हो रहे हैं। यह असर केवल शहर में ही नहीं बल्कि गांव में भी है। गांव के लोग भी काफी परेशान हैं। उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने नोटबंदी के दौरान ही इस स्थिति से अवगत कराया था। जीडीपी में काफी गिरावट आई है। जिसका असर बेरोजगारी के रूप में देखने को मिल रहा है। इस सरकार में उद्योगपति मजे में हैं। आम आदमी मर रहा है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned