आत्म हत्या के लिए उकसाने के आरोपी पति की जमानत मंजूर

हाईकोर्ट ने दिया आदेश

प्रयागराज इलाहाबाद हाईकोर्ट ने बड़गांव झांसी के जय हिंद की जमानत अर्जी मंजूर कर ली है। इन पर दहेज उत्पीड़न एवं आत्महत्या के लिए प्रेरित करने का आरोप है। यह आदेश न्यायमूर्ति बच्चू लाल ने जय हिंद की अर्जी पर दिया है।

इसे भी पढ़े -चयनित शिक्षको को ज्वॉइन न कराने पर वेतन की जिम्मेदारी अधिकारी व प्रबंधन समिति की होगी: हाईकोर्ट

याची अधिवक्ता का कहना था कि पति ने अपनी पत्नी को रक्षाबंधन त्यौहार में मायके जाने की अनुमति नहीं दी । जिससे क्रोधित होकर उसने आत्महत्या कर ली । यह भी कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत किस कारण से हुई एइसका पता नहीं चल सका है और बिसरा रिपोर्ट अभी तक नहीं आई है। उनकी शादी 2009 में हुई थी। पत्नी ने धारा 125 के अंतर्गत 2011 में भरण.पोषण के लिए मुकदमा भी किया था।

लेकिन समझौता होने पर मुकदमा वापस हो गया और दोनों साथ.साथ जीवन यापन कर रहे थे। किसी प्रकार का कोई विवाद नहीं रहा है। दहेज मांगने का भी कोई साक्ष्य नहीं है ।उसके खिलाफ धारा 306 भा दं सं का अपराध नहीं बनता है। याची 30 अगस्त 2019 से जेल में बंद है । कोर्ट ने जमानत मंजूर करते हुए कहा है कि वह साक्ष्यों से छेड़छाड़ नहीं करेगा तथा गवाहों को धमकी नहीं देगा। साथ ही केस के विचारण में पूरा सहयोग करेगा।

प्रसून पांडे
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned