सीएए के खिलाफ 56 वें दिन भी प्रदर्शन जारी, चस्पा हुआ नोटिस ,ढाई सौ के खिलाफ मुकदमा दर्ज

महिलाओं का आरोप होली के त्यौहार के आड़ में प्रशासन बना रहा दबाव

प्रयागराज | नागरिकता संशोधन कानून लागू किए जाने के विरोध में शहर के मंसूर अली पार्क में मुस्लिम महिलाओं का धरना शनिवार को 56 वें दिन भी से जारी है। जबकि जिला प्रशासन की और से पार्क खाली करने का नोटिस चस्पा कर दिया गया है। पार्क की दीवार पर चस्पा की गई नोटिस में 28 फरवरी की तारीख दर्ज है। नोटिस में कहा गया है कि बिना अनुमति के अवैध अतिक्रमण कर पार्क में धरना दिया जा रहा है ।इससे आम नागरिकों को परेशानी हो रही है । नोटिस चस्पा करने से पहले पुलिस ने नामजद समेत ढाई सौ लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। लेकिन प्रदर्शनकारी प्रदर्शन नहीं खत्म कर रहे हैं ।

इसे भी पढ़े- कैट के सदस्यों के खाली पदों को भरने की मांग , प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखा पत्र


वही धरने पर बैठी मुस्लिम महिलाओं ने एक अप्रैल से शुरु होने जा रहे नेशनल परिवार रजिस्टर को रद्द किये जाने की मांग की है। मुस्लिम महिलाओं का कहना है कि एनपीआर रद्द हो जाने से सीएए और एनआरसी का भी कोई मतलब नहीं रह जायेगा। इसलिए सरकार को पहले अब नेशनल परिवार रजिस्ट्रर को ही रद्द कर देना चाहिए। होली के त्यौहार को देखते हुए पुलिस और प्रशासन लगातार मुस्लिम महिलाओं पर धरना खत्म करने का दबाव भी बना रहा है। लेकिन सीएए के खिलाफ धरने पर बैठी महिलायें किसी भी कीमत पर पीछे हटने को कतई तैयार नहीं हैं।


बीते 55 दिनों में कई बार मुस्लिम महिलाओं के धरने को खत्म कराने के लिए पुलिस प्रशासन के अधिकारी धरना स्थल पर पहुंच चुके हैं। लेकिन उन्हें अब तक धरना समाप्त कराने में कोई कामयाबी नहीं मिली है। लेकिन अब होली के त्यौहार के मद्देनजर धरने को लेकर किसी तरह की कोई हिंसा और बवाल न हो इसको लेकर पुलिस और प्रशासन ने एक बार फिर से बातचीत का दौर शुरु कर दिया है हांलाकि पुलिस ने सख्ती दिखाते हुए धरने पर बैठी महिलाओं के खिलाफ धारा 144 के उल्लंघन के तहत मुकदमा भी दर्ज कर लिया है। पुलिस ने सौ नामजद सहित धरने में शामिल 250 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। पुलिस ने जिन लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है उन्हें पांच लाख के बांड भरने पर ही जमानत देने का आदेश दिया है। हांलाकि पुलिस की इस कार्रवाई के बाद भी सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रही मुस्लिम महिलाओं ने धरना समाप्त करने से साफ तौर पर इंकार कर दिया है।

CAA
प्रसून पांडे
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned