कुंभ में मशहूर हैं 'डिजिटल बाबा' तकनीकी की इतनी नाॅलेज की देखते रह जाते हैं कई इंजीनियर

सनातन परंपरा को आगे बढ़ाने के लिए हर माध्यमों से जुड़कर लोगों तक अपनी बात पहुंचा रहे हैं।

By: Ashish Shukla

Published: 19 Jan 2019, 11:15 AM IST

प्रयागराज. कुंभ में जहां नागा साधू सन्यासियों व तपस्वियों के दर्शन के लिए दूर-दराज से लोग पहुंच रहे हैं तो वहीं नई तकनीकी से जुड़े कई संत भी लोगों को लुभा रहे हैं। जो सनातन परंपरा को आगे बढ़ाने के लिए हर माध्यमों से जुड़कर लोगों तक अपनी बात पहुंचा रहे हैं।

ऐसे ही एक युवा संन्यासी हैं राम शंकर दास जो कमंडल, खप्पर, त्रिशूल या तलवार की जगह मैकबुक, ट्राईपॉड, सेल्फस्टिक, महंगे आईफोन, लेप्पल माइक को साथ लेकर पूरे कुंभ की छटा को लाखों लोगों तक पहुंचाने का काम कर रहे हैं। कुंभ में इस बाबा को देखने के लिए भीड़ सी लग जाती है। इनके प्रशंसक कई इंजीनियर भी हैं जो इनसे खुद डिजिटल की बारे में जानकारियां जुटाते हैं।

कुंभ में डिजिटल बाबा के नाम से मशहूर राम शंकर दास ने बताया कि वो देवरिया जिले के खजुरी भट्ट गांव के रहने वाले हैं। वाणिज्य में स्नातक करने के बाद पढ़ाई लिखाई से उनका मन अचानक हट गया और राम शंकर ने अध्याम से नाता जोड़ लिया। घर-बार छोड़कर दुनियां को जानने समझने के लिए निकल पड़े और आध्यात्मिक स्थलों की खोज और साधना के लिए संन्यासी बन गए।

सांसारिक सुखों का परित्याग कर शिव चरण दास से ली दीक्षा

घर छोड़ने के बाद राम शंकर दास सीधे अयोध्या पहुंचे और संत स्वामी शिव चरण दास महाराज से उन्होंने दीक्षा ली। सालों से आध्यात्म से जुड़कर वो सनातन परंपरा को दुनियां भर को बताना चाहते हैं। कुंभ में डिजिटल बाबा के खूब भ्रमण कर रहे हैं और यहां की भव्यता को लाखों लोगों में बांट रहे हैं।

Show More
Ashish Shukla
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned