बयान दर्ज कराने आए दरोगा को सीजीएम कोर्ट में वकीलों ने जमकर पीटा, फोर्स ने बचाई जान

पीड़ित का बयान दर्ज कराने पंहुचे थे

प्रयागराज । जिला कचहरी में एक बार फिर वकीलों की दबंगई देखने को मिली है। सराय ममरेज थाना क्षेत्र के दरोगा एक मुकदमे में पीड़ित का बयान दर्ज करने के लिए शुक्रवार को जिला न्यायालय पहुंचे थे। जहां सीजीएम सात की कोर्ट के सामने वकीलों से उनकी किसी बात पर कहासुनी हो गई ।जिस पर वकीलों ने भरी कचहरी में दरोगा को कोर्ट रूम जमकर पीटा।

दरोगा के साथ कचहरी में मारपीट की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची।किसी तरीके से दरोगा को वकीलों से बचाया गया।फ़ोर्स दरोगा को बाहर ले गई ।जख्मी हालत में दरोगा को बेली अस्पताल ले जाया गया ।जहां पर उनका उपचार कराया जा रहा है। हालांकि अभी तक दरोगा की तरफ से किसी भी तरह की तहरीर थाने में नहीं दी गई है। लेकिन वरिष्ठ अधिकारी मामले की जांच में लगे हैं।

इसे भी पढ़े -सीएए के खिलाफ प्रयागराज में पांचवें दिन भी जारी रहा प्रदर्शन, आंदोलन को समर्थन देने पहुंचे शहीद अशफाक उल्ला खां के पोते

सराय ममरेज थाना क्षेत्र के इस मामले में पीड़ित का बयान लेने दरोगा अजीत उपाध्याय शुक्रवार की दोपहर कचहरी पहुंचे थे।जानकारी के अनुसार न्यायालय अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट कक्ष संख्या 7 के बाहर किसी बात को लेकर दरोगा और वकीलों में विवाद हो गया।बात इस कदर बढ़ गई कि अधिवक्ताओं ने दरोगा को कोर्ट में मारना शुरू कर दिया। दरोगा अजीत उपाध्याय अकेले थे जबकि दर्जनों वकीलों ने उन्हें जमकर पीटा। किसी ने सूचना पुलिस को दी इस दौरान पूरे कचहरी परिसर में अफरातफरी मची रही ।भारी संख्या में पुलिस बल पहुंचकर दरोगा अजीत उपाध्याय को वकीलों से बचाया और अस्पताल ले गई।


उधर दरोगा के साथ कचहरी में मारपीट के मामले पर पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी सक्रिय हो गए हैं। तत्काल मौके पर फ़ोर्स भेजकर वकीलों को शांत कराया गया। कर्नलगंज इंस्पेक्टर अरुण त्यागी के अनुसार दरोगा की आंख में चोट लगी है उन्हें बेली अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है।अभी तक कोई तहरीर नहीं दी गई है जैसे ही कोई तहरीर मिलती है तत्काल कार्यवाही की जाएगी। बताया की एक वकील को चिन्हित किया गया है।

Show More
प्रसून पांडे
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned