जेल में बंद पीएफआई सदस्यों की अर्जी पर हाईकोर्ट ने केंद्र व यूपी सरकार से मांगा जवाब

  • इलाहाबाद हाईकोर्ट 27 जनवरी को करेगा अगली सुनवाई

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

प्रयागराज. हाथरस में दंगा फैलाने की साजिश रचने और देशद्रोह के आरोप में जेल में बंद पीएफआई के तीन सदस्यों की याचिका पर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने उत्तर पदेश सरकार से जवाब मांगा है। इस मामले पर अगली सुनवाई 27 जनवरी को होगी। तीनों आरोपियों को हाथरस जाते समय मथुरा पुलिस ने पांच अक्टूबर को गिरफ्तार कर लिया था।

इसे भी पढ़ें- इलाहाबद हाईकोर्ट ने हिंदू महिला को मुस्लिम पति से मिलवाया, कहा महिलाओं को अपनी शर्तों पर जीने का हक
इनपर आरोप है कि ये लोग कानून व्यवस्था बिगाड़ने और जातीय दंगा भड़काने के उद्देश्य से हाथरस जा रहे थे। पुलिस ने इनके खिलाफ यूएपीए समेत विभिनन धाराओं में मुकदमा दर्ज कर इनकी गिरफ्तारी कर ली। इन सभी को न्यायिक रिमांड पर भेज दिया गया। इन सभी पर पीएफआई की छात्र विंग सीएफआई से जुड़े होने का आरोप है।

इसे भी पढ़ें- प्यार करना गुनाह नहीं: हाईकोर्ट ने एक महीने में अंतर-धार्मिक या अंतर-जातीय विवाह के 100 से ज्यादा जोड़ों को दी सुरक्षा
गिरफ्तार किये गए मुजफ्फरनगर के अतीकुर्रहमान, बहराइच के मसूद व रामपुर के आलम की ओर से अपनी गिरफ्तारी के खिलाफ इलाहाबाद हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की, जिसकी सुनवसाई जस्टिस एसपी केसरवानी और जस्टिस शमीम अहमद की बेंच कर रही है।

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned