मोबाइल पर बेहिसाब बधाई मैसेज से चीफ जस्टिस भी हुए खफा, आदेश आया, ये सब बंद कीजिये

मोबाइल पर बेहिसाब बधाई मैसेज से चीफ जस्टिस भी हुए खफा, आदेश आया, ये सब बंद कीजिये
मैसेज पर रोक

Mohd Rafatuddin Faridi | Updated: 24 Aug 2019, 10:28:51 AM (IST) Allahabad, Allahabad, Uttar Pradesh, India

हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार जनरल ने सभी जिला जजों को जारी किये निर्देश।

साथ ही चेतावनी, निर्देश की अवहेलना करने को गंभीरता से लिया जाएगा।

इलाहाबाद. दिन भर मोबाइल पर आते मैसेज से आज हर कोई परेशान है, दो-चार काम के संदेशों के साथ हजारों बधाई और गैर जरूरी मैसेज रोजाना असहज कर देते हैं। यह समस्या जब इलाहाबाद हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस के लिये हद से ज्यादा बढ़ गयी तो इस तरह के मैसेज भेजने पर रोक लगानी पड़ी। न्यायिक अधिकारियों के जनमाष्टमी बधाई संदेश उनकी परेशानी बढ़ा रहे थे। इसको लेकर इलाहाबाद हाईकोर्ट के महानिबंधक मयंक जैन को निर्देश जारी करना पड़ा कि कोई भी न्यायिक अधिकारी चीफ जस्टिस को व्हाट्सऐप पर किसी पर्व का कोई मैसेज न भेजे। यह आदेश सभी जिला जजों को जारी किया गया और साथ ही चेतावनी भी दी गयी है कि इसकी अवहेलना को गम्भीरता से लिया जाएगा।

 

महानिबंधक मयंक जैन ने निर्देश में सभी जिला जजों को साफ लिखा है कि ऐसे संदेश न भेजे जाएं, इनसे चीफ जस्टिस को असुविधा हो रही है। केवल वही मैसेज भेजे जाएं जो अति आवश्यक हों। उन्होंने सभी जिला जजों से कहा है कि इसकी सूचना सभी न्यायिक अधिकारियों को दी जाय। महानिबंधक ने यह आदेश 23 अगस्त को जारी किया गया है। प्रदेश के सभी जिला जजों को रजिस्ट्रार जनरल ने पत्र भेजकर इस आशय की जानकारी चीफ जस्टिस के कहने पर जारी कर दी है। उसमें कहा गया है कि इस प्रकार शुभकामना संदेशों से चीफ जस्टिस असहज अनुभव कर रहे हैं।

By Court Correspondence

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned