Allahabad High Court: सहायक अध्यापक पद पर नियुक्ति के लिए इंटरमीडिएट के बाद किया डीएलएड प्रशिक्षण भी मान्य

  • 68500 सहायक अध्यापक भर्ती में चयनित याची की याचिका पर High Court Order

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

प्रयागराज. सहायक अध्यापक के पद के लिये इंटरमीडिएट के बाद किया गया डीएलएड भी मान्य है। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने अपने एक महत्वपूर्ण आदेश (High Court Order) में यह कहा है और इंटरमीडिएट के बाद डीएलएड (DELED after Intermediate Valid) करने वाली एक सहायक अध्यापक (Assistant Teacher) का वेतन और एरियर देने का निर्देश दिया है। याची 68500 सहायक अध्यापकों की भर्ती में चयनित हुई थी। पर ऐसी आर्हता के चलते बीएसए गोरखपुर की ओर से उसका वेतन रोक दिया गया था। पूजा कुमारी की याचिका को स्वीकार करते हुए जस्टिस अरविंद कुमार मिश्र (प्रथम) ने ये आदेश दिया।


याची के अधिवक्ता सीमांत सिंह का कहना है कि याची को चार सितंबर 2018 को नियुक्ति पत्र दिया गया और उसने गोरखपुर में सहायक अध्यापक के पद पर ज्वाइन कर लिया। पर गोरखपुर (Gorakhpur) बेसिक शिक्षा अधिकारी की ओर से यह कहते हुए याची का वेतन रोक दिया गया कि उसने इंटर के बाद दो साल का डीएलएड प्रशिक्षण लिया है। जबकि दो साल का प्रशिक्षण स्नातक के बाद होना चाहिेये। बीएसए की ओर से इस संबंध में सचिव बेसिक शिक्षा को पत्र भेजा गया, लेकिन जब कोई जवाब नहीं आया तो हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की गई।


अधिवक्ता का कहना था कि एनसीटीई की 23 अगस्त 2010 की अधिसूचना के मुताबिक सहायक अध्यापक के लिये इंटर 50 प्रतिशत अंकों के साथ उत्तीर्ण और दो वर्षीय प्रशिक्षण चाहे वह किसी भी नाम से किया जाए आवश्यक है। याची ने डीएलएड के बाद स्नातक किया है। सुनवाई के बाद कोर्ट ने याचिका स्वीकार करते हुए याची को वेतन और एरियर भुगतान करने का निर्देश दिया।

 

Show More
रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned