#Kumbh2019 : असली रूद्राक्ष की कैसे करें पहचान, पढ़ें यह खबर

-प्रयागराज कुम्भ मेले में बिक रही है 60 से 60 हजार रूपए तक रूद्राक्ष की मालाएं

By: KR Mundiyar

Updated: 19 Jan 2019, 08:39 PM IST

Allahabad, Allahabad, Uttar Pradesh, India

प्रयागराज.
मान्यता है कि रूद्राक्ष भगवान शिव के आंखों के जलबिन्दु से हुई हैं और रूद्राक्ष भगवान शिव का वरदान है। संसार के भौतिक दु:खों को दूर करने के लिए भगवान ने रूद्राक्ष की उत्पत्ति की। रूद्राक्ष एक फल की गुठली है। आमतौर पर भक्तों की सुरक्षा कवच व प्रार्थना व माला जपने में रूद्राक्ष का उपयोग किया जाता है। लेकिन रूद्राक्ष की माला फेरने का धार्मिक फल तब ही मिलेगा, जब वह माला असली होगी। इसलिए हमें रूद्राक्ष की माला खरीदने से पहले यह जानना जरूरी है कि रूद्राक्ष की असली की पहचान कैसे होगी? क्योंकि कई लोग रूद्राक्ष की नकली माला भी बेचते हैं। दुनिया का सबसे प्रयागराज के बड़े कुम्भ मेले में भी रूद्राक्ष की मालाएं बेची जा रही है। सैकड़ों दुकानों पर धार्मिक मान्यता की कई तरह की मालाएं बिक रही है। इनमें 60 रूपए से लेकर 60 हजार रूपए तक की मालाएं बिक्री के लिए सजी है। मेले में कुछ दुकानों पर इसलिए यह लिखना पड़ रहा है कि यहां रूद्राक्ष की असली माला मिल रही है। ताकि लोग नकली माला के चक्कर में नहीं पड़े।
असली रूद्राक्ष की माला की पहचान कैसे करें, जाने पूरी खबर इस वीडियो में।

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned