Narendra Giri Death. 20 सदस्यों की सीबीआई टीम पहुंची प्रयागराज, शिष्यों से की पूछताछ, मठ का लिया जायजा

Narendra Giri Death. अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि (Narendra Giri News) के आत्महत्या मामले में गठित सीबीआई टीम (CBI team) जांच के लिए शनिवार को प्रयागराज पहुंची।

By: Abhishek Gupta

Published: 25 Sep 2021, 07:24 PM IST

प्रयागराज. Narendra Giri Death. अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि (Narendra Giri News) के आत्महत्या मामले में गठित सीबीआई टीम (CBI team) जांच के लिए शनिवार को प्रयागराज पहुंची। टीम ने कई बिंदुओं पर जांच शुरू कर दी है। शनिवार को पुलिस लाइन में सीबीआई टीम ने एसआईटी के साथ बैठक की। बैठक करने के बाद सीबीआई बाघंबरी गद्दी पहुंची और जांच शुरू कर दी। एसआईटी की जांच रिपोर्ट को भी सीबीआई आधार बना रही है। मामले में जितने भी संदिग्ध है सभी से सीबीआई पूछताछ होगी। इस बीच श्री काशी सुमेरु पीठाधीश्वर स्वामी नरेंद्रानंद सरस्वती (Narendra Saraswati) ने दावा किया है कि महंत नरेंद्र गिरी की हत्या हुई है। उन्होंने आइजी (IG) पर पांच बिस्‍वा जमीन का दबाव बनाने का आरोप लगाया है। वहीं उत्तराधिकार को लेकर महंत नरेंद्र गिरि की तीन वसीयत सामने आईं हैं। आखिरी वसीयत में बलबीर गिरि को उत्तराधिकारी बताया है।

सीबीआई की टीम शनिवार सुबह 11:30 पर प्रयागराज पहुंची। पुलिस लाइन में एसआईटी के साथ बैठक करने के बाद सीबीआई 5 बजे बाघम्बरी गद्दी जांच करने पहुंची। तीन-तीन लोगों की दो टीम बनाकर सीबीआई हर पहलू पर जांच कर रही है। सीबीआई अधिकारियों को एसआइटी ने पूरे घटना स्थल के बारे में जानकारी दी। महन्त के कमरे से लेकर मंदिर, अतिथि घर और घटना स्थल का मुआयना किया। बाघम्बरी गद्दी के शिष्यों और अनुयाययों से पूछताछ की है। सीबीआई ने अलग-अलग टीम बनाकर शिष्यों से पूछताछ की है। शिष्यों से पूछताछ कर उनके बयानों को डायरी में भी नोट किया है। इसके साथ ही अतिथि गृह में रुके अन्य संतों से भी सीबीआई ने पूछताछ की। इसके साथ ही चारों तरफ से पूरे परिसर को देखा। मामले की पूरी जानकारी लेने के बाद सीबीआई संदिग्धों से पूछताछ करेगी। बाघम्बरी मठ में मौजूद सभी सदस्यों से सीबीआई जानकारी जुटा रही है।

ये भी पढ़ें- Narendra Giri Death: सीबीआई ने दर्ज की एफआईआर, जांच हुई तेज, मठ के उत्तराधिकारी पर हुआ मंथन

सीबीआई ने बलबीर गिरि से की पूछताछ-

सीबीआई ने महन्त नरेंद्र गिरि के शिष्य बलवीर गिरि से भी पूछताछ की और उनके बयानों को भी नोट किया है। आत्महत्या के बाद महंत पार्थिव शरीर को देखने वाले सेवादार दुर्गेश दुबे से भी सीबीआई ने पूछताछ किया है। बताया जा रहा है कि बाघम्बरी गद्दी के चारों तरह निरीक्षण करने के बाद सीबीआई घटना का सीन क्रिएट कर सकती है। सीबीआई ने समाधि स्थल का भी गहराई से निरीक्षण किया है।

टीम ने जुटाई गई जानकारियों के बारे में पूछा। साथ ही प्रयागराज पुलिस टीम द्वारा की गई कार्रवाई के बारे में जानकारी ली। पुलिस से पूछा कि कितने लोगों को गिरफ्तार किया गया है, किन्हें हिरासत में लिया गया। सीबीआई ने लोगों से ली गई जानकारी के बताया में पूछा। इसके बाद सीबीआई टीम मठ पहुंची और जांच की।

ये भी पढ़ें- Narendra Giri Death: वीडियो क्लिप आई सामने, साथ में आए पांच सवाल

महंत नरेंद्र गिरी की हत्या हुई है: स्वामी नरेंद्रानंद सरस्वती

महंत नरेंद्र गिरी मौत मामले में श्री काशी सुमेरु पीठाधीश्वर स्वामी नरेंद्रानंद सरस्वती ने दावा किया है कि नरेंद्र गिरि की हत्या हुई है। उन्होंने कहा कि आईजी केपी सिंह महंत पर पांच बिस्वा जमीन देने व ट्रस्‍ट का सदस्य बनाने का दबाव बना रहा था। ऐसा महंत नरेंद्र गिरि ने बताया था। स्वामी नरेंद्रानंद सरस्वती का यह दावा सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। उन्होंने कई और सवाल खड़े किए हैं। कहा कि हंत की मृत्यु के बाद आइजी सबसे पहले मठ कैसे पहुंच गए? माघ मेला के समय नरेंद्र गिरि ने बताया था कि आइजी उनके पीछे पड़े हैं और धमकाते रहते हैं।

उत्तराधिकार को लेकर सामने आईं महंत नरेंद्र गिरि की तीन वसीयत-

उत्तराधिकार को लेकर नरेंद्र गिरि की तीन वसीयत सामने आईं है। उन्होंने 10 साल के भीतर 3 बार अपनी वसीयत लिखी थी। आखिरी वसीयत में बलबीर गिरि का नाम उत्तराधिकारी के तौर पर लिखा गया था। यानी कानूनी तौर पर बलबीर गिरि के नाम पर महंत ने वसीयत बनवाई थी। इस बात का खुलासा महंत नरेंद्र गिरि के वकील ऋषि शंकर द्विवेदी ने किया है। वकील ने बताया कि ये तीनों वसीयत 2010 से 2020 के बीच में बनवाई गई थीं। वकील ऋषि शंकर द्विवेदी ने कहा, महंत ने 2010 में बलबीर गिरि के पक्ष में पहली वसीयत बनाई थी। बाद में उन्होंने आनंद गिरी के पक्ष में एक और वसीयत की, जिसमें कहा गया था कि बलबीर गिरि काम में दिलचस्पी नहीं ले रहे हैं।

Abhishek Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned