स्कूटर चलाते हुए वीडियो कॉन्फ्रेसिंग में पेश हुआ वकील, इलाहाबाद हाईकोर्ट नाराज

Allahabad High Court angry - कहा नहीं सुनेंगे दलील, भविष्य में दोबारा ऐसा न करने की दी चेतावनी

By: Mahendra Pratap

Published: 27 Jun 2021, 10:34 AM IST

प्रयागराज. Allahabad High Court angry warned इलाहाबाद हाईकोर्ट में सुनवाई के एक मामले में वकील के पेश होने का तरीका कोर्ट को बेहद नागवार लगा। कोर्ट ने सुनवाई से इनकार कर दिया और वकील साहब को चेतावनी देते हुए कहाकि, आगे से ऐसा न हो।

यूपी के 12 जेल अधीक्षकों का तबादला, तुरंत ज्वाइन करने के आदेश

मामला कुछ ऐसा था कि, इलाहाबाद हाईकोर्ट में एक मुकदमे की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग मोड पर हो रही सुनवाई के दौरान वकील साहब स्कूटर चला रहा था। इस पर इलाहाबाद हाईकोर्ट में ज‌स्टिस मनोज कुमार गुप्ता और जस्टिस सैयद आफताब हुसैन रिजवी की खंडपीठ ने वकील को भविष्य में सावधान रहने को कहा और भविष्य में इस कृत्य को न दोहराने की सलाह दी। कोर्ट ने आदेश में कहा, याचिकाकर्ता की ओर से पेश वकील ने स्कूटर पर सवारी करते हुए कोर्ट को संबोधित करने की कोशिश की। इसलिए, कोर्ट ने उसे सुनने से इनकार कर दिया। उसे भविष्य में सावधान रहना चाहिए, भले ही सुनवाई वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से हो। मामले की अगली सुनवाई 12 जुलाई तक स्थगित कर दी गई।

चाहे हाईकोर्ट हो या सुप्रीम कोर्ट सभी कोर्ट के अंदर नियम कानून और अनुशासन का पालन करने और कराने पर बेहद सख्त हैं। ऐसे कई उदाहरण हैं।

1. फरवरी 2021 में उड़ीसा हाईकोर्ट ने वर्चुअल मोड में हुई सुनवाई में कोर्ट के सामने बहस करते हुए नेक बैंड नहीं पहनने पर एक वकील पर 500 रुपए का जुर्माना लगाया।

2. कर्नाटक उच्च न्यायालय ने कार के अंदर बैठकर वीडियो कॉन्फ्रेंस की कार्यवाही में भाग लेने पर एक वकील को फटकार लगाई थी।

3. पिछले साल, सुप्रीम कोर्ट ने एक वकील की माफी को स्वीकार किया था, जो टी-शर्ट पहने बिस्तर पर लेटे हुए कोर्ट के सामने पेश हुआ था। कोर्ट ने उस मामले में वीडियो माध्यम से सुनवाई के दौरान न्यूनतम कोर्ट शिष्टाचार बनाए रखने की आवश्यकता पर जोर दिया था।

Mahendra Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned