आखिरी दिन महंत नरेंद्र गिरि को आए थे 35 कॉल, इन दो कॉल पर पुलिस चौंक गई

Mahant Narendra Giri murder mystery - कॉल करने वालों में हरिद्वार के प्रापर्टी डीलर भी शामिल
- सीबीआइ ने शुरू की जांच, छह सदस्यीय टीम गठित

By: Sanjay Kumar Srivastava

Published: 24 Sep 2021, 07:32 PM IST

प्रयागराज. Mahant Narendra Giri murder mystery अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद (Akhil Bhartiya Akhara Parishad ) अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरि (Mahant Narendra Giri,) की संदिग्ध मौत के बारे में राज दर राज सामने आ रहे हैं। जांच में पता चला कि अपनी मौत से पहले महंत नरेंद्र गिरि को 35 कॉल आई थी। जिसमें 18 लोगों से बात की थी। इनमें दो हरिद्वार के बड़े प्रापर्टी डीलर भी शामिल थे। जांच के दायरे में अब सभी आ गए हैं वो भी जिनसे बात हुई थी और जिनसे कॉल तो आई थी पर बात नहीं हो सकी। वहीं दूसरी तरफ केन्द्र सरकार के नोटिफिकेशन के बाद अनसुलझे सवालों के जवाब तलाशने के लिए इस मामले को सीबीआइ (Central Bureau of Investigation) ने अपने हाथ में ले लिया है। और अपनी एक छह सदस्यीय टीम गठित कर जांच ( investigation) को शुरू कर दिया है।

महंत नरेन्द्र गिरि की संदिग्ध मौत की जांच के लिए सीबीआइ ने गठित की छह सदस्यीय टीम

महंत नरेंद्र गिरि ने 20 सितंबर को अपनी मौत से पहले 18 लोगों से बात की थी। इनमें से दो हरिद्वार के बड़े प्रापर्टी डीलर हैं। हत्या की एक वजह प्रापर्टी हो सकती है इस आधार पर पुलिस के लिए हरिद्वार के दोनों प्रापर्टी डीलर से यह जानना जरूरी है कि आखिरकार महंत से क्या बात हुई थी। बाकी 16 के भी बयान दर्ज होंगे। इसके अलावा उनका सीडीआर (कॉल डीटेल्स रिकार्ड) भी निकाला गया है। ऐसे नंबरों की तलाश है जिनसे मौत से पूर्व के दिनों में काफी बार बात हुई। इसके साथ ही पूरे सितंबर महीने की कॉल डीटेल्स की स्क्रूटनी की जा रही है। पुलिस ने पूछताछ के लिए संदिग्ध लोगों की सूची भी बनाई है। महंत नरेंद्र गिरि की सुरक्षा में तैनात में सिपाहियों के खिलाफ विभागीय जांच शुरू कर दी गई है। सिपाहियों पर लापरवाही के साथ ही संपत्ति बनाने का भी आरोप है।

महंत नरेन्द्र गिरि की संदिग्ध हत्या मामले में कई पेंच हैं। कई अनसुलझे सवाल हैं हर कोई इनका उत्तर जानने को बैचेन है। केन्द्र सरकार के नोटिफिकेशन के बाद इस मामले को सीबीआइ ने अपने हाथ में ले लिया है। और अपनी एक छह सदस्यीय टीम गठित कर जांच शुरू कर ली है। सीबीआई टीम शीघ्र प्रयागराज आएगी। और आने के बाद इस केस की एफआइआर दर्ज कर जांच शुरू कर देगी। सीबीआई ने उत्तर प्रदेश पुलिस से अब तक की हुई जांच समेत सभी दस्तावेज मांगे हैं।

Sanjay Kumar Srivastava
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned