मकर संक्रांति स्नान से माघ मेला शुरू, कोरोना रिपोर्ट दिखाकर ही मिलेगी मेले में एंट्री

- कोरोना संक्रमण पर भारी आस्था, लाखों श्रद्धालुओं ने लगाई डुबकी
- प्रयागराज में माघ मेला और 45 दिन का कल्पवास शुरू

By: Hariom Dwivedi

Updated: 14 Jan 2021, 03:56 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
प्रयागराज. कोरोना संक्रमण का खौफ, कड़ाके की ठंड और घना कोहरा भी श्रद्धालुओं के पैरों की बेड़ियां नहीं बन सका। माघ मेले के पहले स्नान पर्व यानी मकर संक्रांति पर सुबह से ही गंगा, सरयू, यमुना और गोमती नदी के सभी स्नान घाटों पर भक्तों ने आस्था की डुबकी लगाई। प्रयागराज, काशी और अयोध्या में ब्रह्ममुहूर्त में ही लोगों का हुजूम हर-हर महादेव और जय श्रीराम के नारे लगाते हुए घाटों पर उमड़ा। प्रशासन का दावा है कि प्रयागराज संगम में सुबह 10 बजे तक पांच लाख से अधिक श्रद्धालु स्नान कर चुके हैं। पूरे दिन श्रद्धालुओं के आने, नहाने और दान-पुण्य का सिलसिला जारी रहा।

गुरुवार से प्रयागराज में माघ मेला शुरू हो गया है। इस बार मेले में 36 स्नान घाट बनाए गए हैं। घाटों पर सोशल डिस्टेंसिंग के साथ स्नान की व्यवस्था की गई है। मेले में हर श्रद्धालु को अपनी कोरोना टेस्ट रिपोर्ट लानी होगी, जो पांच दिन से अधिक पुरानी न हो। सुरक्षा और संक्रमण के खतरे को देखते हुए महिला हेल्प डेस्क और कोरोना हेल्प डेस्क भी बनाई गई है। प्रशासन का अनुमान है कि इस बार तीन से चार करोड़ श्रद्धालु प्रयागराज आएंगे। मेलाधिकारी विवेक चतुर्वेदी के मुताबिक, मेले में हर तरह से तैयारी पूरी है। सुरक्षा-व्यवस्था चाक चौबंद है। कोरोना के खतरे को देखते हुए तैयारी और बेहतर की गई है। मेले में अधिक भीड़ न हो, इसलिए सिर्फ जरूरी दुकानों को ही अनुमति दी गई है। मेले में आने के लिए 16 प्रवेश मार्ग बनाये गये हैं। हर गेट पर थर्मल स्कैनिंग की व्यवस्था है। 13 थाने और 38 पुलिस चौकियां बनाई गई हैं। पुलिसवाले मेले में घूम-घूमकर सुनिश्चित करेंगे कि लोग मास्क पहनकर ही निकलें। इसके अलावा कोरोना रिपोर्ट चेक करने की जिम्मेदारी भी उनकी होगी।

मकर संक्रांति से महाशिवरात्रि तक लाखों साधु-संत और श्रद्धालु अस्थाई निवास बनाकर माघ मेले में रहते हैं, जिन्हें कल्पवासी कहा जाता है। इस बार माघ मेले में 45 दिन का ही कल्पवास हो पाएगा, क्योंकि प्रशासन ने माघ पूर्णिमा तक ही कल्पवास की छूट दी है। सभी तीर्थ पुरोहितों से आने वाले कल्पवासियों का डेटाबेस लेकर वेबसाइट पर अपलोड किया जा रहा है। 15-15 दिनों एक अंतराल पर हर कल्पवासी की दो बार रैपिड एंटीजन किट से कोविड जांच भी कराई जाएगी। शुरुआत में वह कोरोना की रिपोर्ट लेकर आएंगे। इसके बाद दो बार उनका कोरोना टेस्ट किया जाएगा। एक भी श्रद्धालु की कोविड रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर शिविर के सभी श्रद्धालुओं को 15 दिनों के लिए आइसोलेट किया जाएगा। इस बार माघ मेले में पंडाल लगाने की अनुमति नहीं दी गई है। सिर्फ आश्रमों या कल्पवास के लिए पंडाल लगाया गया है।

यह भी पढ़ें : अयोध्या-प्रयागराज के बीच मेला स्पेशल ट्रेनें शुरू, कुंभ-उपासना एक्सप्रेस भी जल्द दौड़ेगी, जानें- टाइम शेड्यूल

ayodhya.jpg

रामलला को दही, पापड़, घी के साथ खिचड़ी का भोग
28 वर्षों बाद मकर संक्रांति पर रामलला ने दही, पापड़ और घी के साथ खिचड़ी का भोग किया। श्रीराम जन्मभूमि के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास ने बताया कि राम मंदिर निर्माण की वजह से रामलला सुंदर अस्थाई मंदिर में विराजमान हैं। 28 वर्षों बाद पहली बार मकर संक्रांति पर उन्हें खिचड़ी प्रसाद भोग लगाया गया है। उन्होंने बताया कि इसी तरह अयोध्या के सभी मठ मंदिरों में भी विराजमान भगवान को भोग लगाए जाने के साथ ही अयोध्या आये श्रद्धालुओं को प्रसाद के रूप में खिचड़ी खिलाई गई। गुरुवार को बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने पवित्र सरयू नदी में स्नान किया और वस्त्र व अन्न आदि का दान किया।

यह भी पढ़ें : 48 नहीं 60 दिनों का होगा हरिद्वार कुंभ मेला, श्रद्धालुओं के लिए जरूरी बातें

Show More
Hariom Dwivedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned