इलाज के अभाव में पीठासीन अधिकारी की मौत,पत्नी ने लगाया गंभीर आरोप

इलाज के अभाव में पीठासीन अधिकारी की मौत,पत्नी ने लगाया गंभीर आरोप
2019 lok sbha

Prasoon Kumar Pandey | Updated: 14 May 2019, 10:51:54 AM (IST) Allahabad, Allahabad, Uttar Pradesh, India


विवेक नंदन डिप्रेशन के मरीज थे,लंबे समय से चल रहा था मरीज

प्रयागराज। फूलपुर संसदीय क्षेत्र में रविवार को मतदान के दौरान पोलिंग बूथ पर हार्टअटैक से एजी ऑफिस के लेखाधिकारी विवेक नंदन की मौत हो गई। विवेक नंदन की पत्नी मीना नंदन ने प्रशासन को इसका जिम्मेदार ठहराया है।उन्होंने कहा बूथ पर व्यवस्थाओं के आभाव में उनके पति की मौत हो गई। मीडिया से बात करते हुए कहा कि बूथ से जब उन्हें ले जाया गया तो वह जीवित थे समय पर उनको इलाज नहीं मिला जिसके चलते उसकी मौत हो गई मीना का कहना है की हार्टअटैक कैसे आया। ये उन्हें नहीं पता लेकिन जिस बूथ पर उनकी ड्यूटी थी वहां बिजली की व्यवस्था नहीं थी।उन्होंने कहा की 11 मई की रात 9 बजे मेरी अपने पति से फोन पर बात हुई थी।

यह भी पढ़ें

कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने दिया बड़ा बयान,चुनाव आयोग को बताया बेईमान

उन्होंने बताया था कि मेरा फोन डिस्चार्ज हो रहा है। यहां लाइट नहीं है। रविवार की सुबह भी उनका फोन स्विच ऑफ था। एक बार फिर इन्होंने किसी दूसरे नंबर से मुझे फोन किया था। और कहा कि सोमवार को बात होगी 17 को लखनऊ आना है।मीना नंदन के अनुसार विवेक नंदन डिप्रेशन के मरीज थे। उनका इलाज चल रहा था । विवेक नंदन के परिजन जहां इस घटना से बिल्कुल हैरान है वही एजी ऑफिस से कर्मियों में बेहद आक्रोश है।जानकारी के अनुसार स्वरूप रानी अस्पताल के इमरजेंसी में विवेक नंदन की भर्ती होने के समय रविवार को शाम 4 बजकर दस मिनट दर्ज है उस में जानकारी दर्ज है। रजिस्टर में है कि जब उन्हें लाया गया तो उनकी मौत हो चुकी थी ।

वहीं एजी ऑफिस से कर्मचारियों का कहना है कि प्रशासन ने दावा किया था कि चुनाव के दौरान हर सेक्टर पर एंबुलेंस की व्यवस्था होगी। डॉक्टरों की मोबाइल टीम निगरानी करती रहेगी प्राथमिक और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर भी अतिरिक्त ड्यूटी पर डॉक्टर रहेंगे। लेकिन जब विवेक की तबीयत खराब हुई तो बूथ पर कोई भी डॉक्टर एंबुलेंस नहीं पहुंची जब उनकी तबीयत खराब हुई थी।किसी ने सुध नही ली । मीना नंदन अपने बच्चो के साथ लखनऊ में रहती थी जबकि उनके पति प्रयागराज में पोस्टेड थे ।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned