पंडित नेहरू के बाद पीएम  मोदी ने हाईकोर्ट में न्यायाधीशों संग पी 'चाय'

पंडित नेहरू के बाद पीएम  मोदी ने हाईकोर्ट में न्यायाधीशों संग पी 'चाय'
pm modi with judges in allahabad

राष्ट्रपिता को किया नमन, इलाहाबाद हाइकोर्ट की म्यूजियम में जाना इतिहास

विकास बागी

इलाहाबाद. भारत की ट्रेनों में चाय बेचने से लेकर देश के प्रधानमंत्री बनने तक का सफर तय करने वाले बाबा विश्वनाथ की नगरी काशी के सांसद नरेंद्र मोदी ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में न्यायधीशों संग कोर्ट की लाइब्रेरी में चाय पी। बीजेपी की दो दिवसीय  राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक में रविवार को शामिल होने संगम नगरी इलाहबाद पहुँचे नरेंद्र मोदी के लिए भी यह एक ऐतिहासिक पल था। नरेंद्र मोदी आजाद भारत देश के दूसरे ऐसे प्रधानमंत्री हैं जिन्होंने इलाहबाद हाइकोर्ट में न्यायधीशों के संग लाइब्रेरी के टेबल पर चाय पी। इससे पूर्व देश के प्रथम प्रधानमन्त्री पंडित जवाहर लाल नेहरू ही थे जो जिनके कदम इलाहबाद हाइकोर्ट में पड़े। 
भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में शामिल होने आए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कुछ समय इलाहाबाद हाईकोर्ट में भी गुजारा। प्रधानमंत्री मोदी ने हाईकोर्ट में स्थापित राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हें नमन् किया, उसके बाद वह हाईकोर्ट की म्यूजियम पहुँचे। इलाहाबाद हाइकोर्ट के गौरवशाली इतिहास से रूबरू होने के बाद पीएम मोदी ने चीफ जस्टिस की लाइब्रेरी में न्यायाधीशों के साथ औपचारिक मुलाकात की और चाय की चुस्कियों के साथ विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की।
हाईकोर्ट में जजों के साथ चाय के बाद मोदी ने बार पदाधिकारियों से मुलाकात की। हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष राधाकांत ओझा और महासचिव अशोक सिंह ने बताया कि प्रधानमंत्री ने मुलाकात के दौरान भरोसा दिलाया है कि हाई कोर्ट की बेंच के मसले पर वे वकीलों को नाराज नहीं करेंगे।
इस दौरान ओझा और सिंह ने बेंच सहित अन्य मुद्दे रखे तो प्रधानमंत्री ने उन पर गंभीरता से विचार का आश्वासन दिया। 
शाह ने कही थी नई बेंच की बात
गौरतलब है कि पिछले दिनों भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने पश्चिमी उप्र में हाईकोर्ट बेंच बनाने पर विचार की बात कही थी। जबकि हाईकोर्ट बार और वकील इसकेे खिलाफ हैं और इसका विरोध कर रहे हैं। इसे लेकर वकील भाजपा प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्या का घेराव भी कर चुके हैं। इससे पूर्व दिन में मोदी हाई कोर्ट पहुंचने से पहले मौर्या भी वकीलों को मनाने वहां पहुंचे थे।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned