जब मुस्लिम बस्तियों में पोलियो ड्रॉप पिलाने पहुंची टीम, तो वहां हुआ कुछ ऐसा कि...

आजमगढ़ में नौनिहालों को पिलायी गयी पल्स पोलिया की दवा, लक्ष्य के सापेक्ष जिले में 53.50 प्रतिशत बच्चों ने पी जिंदगी दो बूंद।

आजमगढ़. पोलियो उन्मूलन अभियान के तहत रविवार को जिले में 0-5 तक के बच्चों को पोलियो ड्राप पिलाया गया। बचे हुए बच्चों को अगले सात दिन तक घर-घर जाकर स्वास्थ्यकर्मी दवा पिलाएंगे। इस दौरान मुस्लिम बस्तियों में पोलिया की खुराक पिलाने वाली टीम के साथ कुछ अलग ही हुआ। बस्ती में पहुंचने पर कुछ लोग पूछताछ करने लगे। पहले तो टीम के लोग हैरान रह गए। इसके बाद टीम ने बड़े ही आराम से उन्हें बताया कि वो लोग पोलिया ड्रॉप पिला रहे हैं पांच साल तक के बच्चों को। यह पोलियो जैसी ला इलाज बीमारी से बचने के लिये है। इस बीमारी के चलते बच्चे जीवन भर के लिये अपंग हो जाते हैं। इसके बाद सभी लोगों ने टीम की मदद की और मुहल्ले में बच्चों को पोलियो की दवा पिलायी गयी।


अभियान का शुभारंभ प्रभारी जिलाधिकारी अभिषेक सिंह ने महिला अस्पताल में बच्चों को दवा पिलाकर किया। जनपद में बच्चों को पोलियो की खुराक पिलाने के लिए 2402 पोलियो बूथ बनाये गए थे। इसके अलावा घर-घर पोलियो की दवा पिलाने के लिए 1170 कर्मचारी लगाए गये है। कार्यक्रम की सफलता के लिए 32 मोबाइल टीम, 46 ट्रांजिट टीम, 374 सुपरवाइजर, 2374 डोर टू डोर वैक्सीनेटर, 4804 वैक्सीनेटर पोलियो बूथ, 1186 फीमेल वैक्सीनेटर लगाये गये है। 0-5 वर्ष तक कुल छह लाख 55 हजार 561 बच्चों को पोलियो का ड्राप पिलाने का लक्ष्य है।


प्रभारी डीएम ने कहा कि आज पोलियो बूथों पर पोलियो की टीम द्वारा पोलियो की खुराक पिलायी जा रही है। पोलियो एक भंयकर लाइलाज बीमारी है। अपने 0-5 वर्ष तक के बच्चों को पोलियो की दो बूंद जिन्दगी के पिलाने में लापरवाही कदापि न करें। आज जो बच्चा पोलियो की खुराक पीने से वंचित हो जायेगा उसे पोलियो की टीम द्वारा घर जाकर पोलियो की खुराक पिलायेगी।


मुख्य चिकित्साधिकारी डा. एसके तिवारी ने कहा कि हमारा प्रयास है कि पोलियो बूथ के दिन अधिक से अधिक बच्चों को पोलियो की खुराक पिला दिया जाय तथा अवशेष बच्चों को पोलियो की टीम द्वारा घर-घर जाकर पोलियो की दवा पिलायी जायेगी। अल्पसंख्यक बाहुल्य बस्तियों में पोलियो की खुराक पिलाने पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है।

 

वरिष्ठ अधिकारियों/डाक्टरों को विकास खण्डवार डयूटी लगायी गयी है। उन्हे यह भी हिदायत दी गयी है कि क्षेत्रों में भ्रमण कर शत-प्रतिशत लक्ष्य के अनुसार बच्चों को पोलियो की खुराक पिलायी जाय, पोलियो की खुराक पीने से 0-5 वर्ष तक के एक भी बच्च छूटने न पावें। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा. संजय कुमार ने बताया कि लक्ष्य 6,55,561 बच्चों के सापेक्ष आज 3,48,990 बच्चों को पोलियो की खुराक पिलायी गयी। जो लक्ष्य का लगभग .53.50 प्रतिशत है।
by Ran Vijay Singh

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned