पहली बारिश में ही धंस गई डिप्टी सीएम के शहर की सड़कें, दावों की खुली पोल

 पहली बारिश में ही धंस गई डिप्टी सीएम के शहर की सड़कें, दावों की खुली पोल

भ्रष्ट ठेकेदारों को ब्लैक लिस्ट में डालने की कही गयी थी बात, पहली बारिश में ही सरकार के दावों की खुली पोल

इलाहाबाद. डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य सहित चार मंत्री देने वाले शहर की सड़कों ने पहली ही बारिश में सरकार के दावों को पोल खोल कर रख दी है। निर्माण के कुछ ही सप्ताह में धंसी सड़क ने भ्रष्टाचार की परतें भी खोल दी है। हालात यह है कि इस सड़क पर जल्द ही आवागमन नहीं रोका गया, तो बड़ा हादसा हो सकता है।


यूपी विधानसभा चुनाव के पहले बीजेपी सरकार ने दावा किया था कि सरकार बनते ही 15 जून के अंदर प्रदेश की सड़कें गड्ढा मुक्त होंगी। हालांकि 15 जून तो बीत गया सड़के तो गड्ढा मुक्त नहीं हो पाए लेकिन जो सड़के हाल ही में बनी हैं, वो भी गढ्ढा युक्त हो गई। इसका नजारा इलाहबाद की विभिन्न सड़कों पर देखा जा सकता है।

यह भी पढ़ें:
योगी सरकार में 50 हजार आदिवासी - दलित मजदूरों के पेट पर लात


शहर के आनन्द भवन के सामने कुछ दिन पहले ही सड़क का निर्माण हुआ था लेकिन दो दिनों से हो रही लगातार बारिश के बाद आधी सड़क जमीन में धंस गयी है। सड़क काफी अंदर तक सुरंगनुमा हो गया है। मौत को दावत दी रही इस सड़क पर लगातार बस, स्कूली वैन, ऑटो सहित अन्य भारी वाहन व मोटरसाइकिल से लोगों का आवागमन लगातार हो रहा है। लेकिन अभी तक प्रशासन के किसी भी अधिकारी व कर्मचारी का ध्यान नहीं गया है। अगर जल्द ही सड़क पर आवागमन नहीं रोका गया तो कोई बड़ा हादसा भी हो सकता है। कुछ ऐसी ही स्थिति राजरूपपुर, कालिंदीपुरम, सिविल लाइन सुभाष चौराहे, झलवा, अल्लापुर, चकिया सहित अन्य जगहों पर भी है।




ठेकेदारों को ब्लैक लिस्ट में डालने की कही गयी थी बात
यूपी में सरकार बनते ही डिप्टी सीएम केशव प्रसाद, स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ ने नगर आगमन पर साफ साफ कहा था कि अगर जल्द ही यूपी की सड़कें गड्ढा मुक्त  होंगी। इसके अलावा अगर सड़क निर्माण में किसी प्रकार का भ्रष्टाचार का मामला सामने आया तो ऐसे ठेकेदारों को ब्लैक लिस्ट में डाला जाएगा। अब ये देखना है कि इस भ्रष्टाचार को लेकर यूपी सरकार के कैबिनेट मंत्री कौन सा ठोस कदम उठाते हैं।

सीवरेज खुदाई से शहर का बुरा हाल
शहर में चारों ओर सीवरेज की खुदाई का काम हो रहा है, जिसकी वजह से जगह जगह सड़कें खोद दी गयी हैं । जिसके कारण लोगों का शहर में निकलना मुश्किल हो गया है। कई जगह पर गलियों को भी खोद दिया गया है लेकिन उन्हें ढकने में काफी लापरवाही बरती जा रही है। इसके कारण लोगों को काफी परेशानी उठानी पड़ रही है।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned