यूको बैंक डकैती केस: इस बड़े लूट गिरोह पर पुलिस को है शक, 80 हजार से अधिक मोबाइल नंबर खंगाल रही टीम

शहर के यूको बैक में हुई करोड़ों की डकैती मामले में यूपी सहित बिहार मध्य प्रदेश सहित पश्चिम बंगाल के गिरोह पर नजर

 

By: Ashish Shukla

Published: 03 May 2018, 12:19 PM IST

इलाहबाद. शहर के यूको बैंक की मुख्य शाखा में लाकरो को तोड़कर करोड़ों की डकैती करने वाले बदमाशों के सुराग में लगी पुलिस अब भी खाली हाथ है। पुलिस टीमें बना कर जिले के शातिर अपराधियों के साथ आसपास के जिलों में भी वारदात को अंजाम दे सकने वाले गिरोह पर नजर है।

वहीं पुलिस के उच्चाधिकारियों की बैठक में तय करके दिल्ली बिहार समेत मध्य प्रदेश के डकैतों के गैंग की तलाश में पुलिस लग गई है। बैंक के ग्राहकों में आक्रोश देखते हुए एसएसपी ने सिविल लाइन चौकी प्रभारी और दो सिपाहियों का निलंबन कर दिया है । साथ ही उन 17 ग्राहकों का भी नाम जारी किया है। जिनकी सामान बैंक के लॉकर में रखे थे। पुलिस बैंक के सभी कर्मचारियों से पूछताछ करने में जुटी है लोगों की मानें तो इतनी बड़ी घटना बिना किसी घर के भेदी के संभव ही नहीं है।

यूको बैंक की आस पास उस दिन एक्टिव नंबरों की जांच की जा रही है। डकैतों की तलाश में एसटीएफ ने 80 हजार से ज्यादा मोबाइल नंबर जांच की जा रही है। इनमें बिहार पश्चिम बंगाल और झारखंड के मोबाइल नंबर को ट्रेस किया जा रहा है । तो वहीं दुसरे दिन देर रात तक एसटीएफ ने बैंक और उसके आसपास लगे सीसीटीवी फुटेज के जरिए बदमाशों की तलाश में लगे रहे।

पुलिस सर्विलांस की मदद से उन्हें पकड़ने की कोशिश में लगी है, भारी दबाव देखते हुए आला अधिकारी भी सतर्क है। यूको बैंक की शाखा में तैनात 18 कर्मचारियों से अब तक एसटीएफ पुलिस ने पूछताछ की है । जिस ने पुलिस को एक अहम सुराग हाथ लगा है कि वारदात होने से पहले दो कर्मचारी छुट्टी पर थे । जिनमें से एक कर्मचारी ऐसा है।जिसके पास लाकर की पूरी जानकारी हुआ करती थी।

यूको बैंक डकैती में पश्चिम बंगाल की मलाला गिरोह पर पुलिस की पैनी नजर बनी है । बीते साल कानपुर कि बैंक से 32 लाकर तोड़कर डकैती करने वाले इस गिरोह के सदस्यों ने गिरफ्तारी के बाद का यह कबूला था कि कानपुर सहित इलाहाबाद में भी इस गिरोह के सदस्यों ने डकैती डालने के लिए देखी थी । ऐसे में इस गिरोह पर पुलिस का शक गहरा रहा है।गिरोह के सदस्यों की गिरफ्तारी पर पुलिस काम कर रही है। डकैती के बाद होटल लॉज और गेस्ट हाउस में देर रात तक छापेमारी जारी रही है । गेस्ट हाउस और धर्मशाला से कई लोगों को पुलिस ने हिरासत में लिया है जिनसे पूछताछ कर रहे हैं।

बैंक के आस पास की दीवारों और छतो को फांसकर पुलिस डकैतों के आने की संभावनआों को भी ध्यान में रखकर पुलिस जांच कर रही है। वहीं जिस गैस कटर से काटकर बैंक में लूट की वारदात को अंजाम दिया गया उसको शहर के जीरो रोड स्थित प्लांट से लिया था। फोरेन्सिक विभाग के लोग भी अब तक डटे हैं लेकिन कोई सुराग नहीं मिल रहा है। वही बैंक के ग्राहकों की हालत खराब है । लोग अपने गहने पैसे और कीमती सामनों के बारे में जानने के लिये परेशान हैं। बैंक मैनेजर के पास कोई जबाब नही है । ग्राहक बैंक मैनेजर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने की बात कर रहे हैं।

Ashish Shukla
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned